Times of Crime Bhopal

Times of Crime Bhopal

C

C

Tuesday, June 6, 2017

एनडीटीवी बैन : आपातकाल का नाम लेकर क्यों डरा रहे हो भाई !

एनडीटीवी के लिए चित्र परिणाम
TOC NEWS
ट्विटर पर NDTVbanned ट्रेंड करने लगा है. पत्रकार इसका स्वाभाविक विरोध कर कर रहे हैं.
ट्विटर पर NDTVbanned ट्रेंड करने लगा है. पत्रकार इसका स्वाभाविक विरोध कर कर रहे हैं. एडिटर्स गिल्ड की बैन हटाने की मांग वाली चिट्ठी आ गई है. बाकी पत्रकार संगठनों की चिट्ठी-पतरी भी रास्ते में होगी. पत्रकार बिरादरी विरोध क्यों न करें ? नेताओं को नारे लगाने से मना कर दिया जाए तो वो क्या करेंगे? वकीलों को बहस करने से रोक दिया जाए तो वो क्या करेंगे? अधिकारियों को आदेश देने से रोक दिया जाए तो वो क्या करेंगे?
मसला ये है कि नेता, मंत्री से लेकर अधिकारी तक अपने दायरे से बाहर निकल जाएं तो उनकी मुश्कें कसने के तरीके हैं. लेकिन मीडिया सेल्फ रेगुलेशन की आड़ लेकर बचना चाहता है. एक पत्रकार को ये बात हजम करने में मुश्किल हो सकती है. आसानी के लिए गौर करना चाहिए कि सेल्फ रेगुलेशन के नाम पर NBA जैसे टेलीविजन के स्वयंभू संगठनों ने खुद को सुधारने के लिए क्या-क्या किया है.
सत्ता के प्रभाव से प्रेस को दूर रहना होगा
अकबर इलाहाबादी कह गए हैं- “न तीर निकालो न तलवार निकालो, जब तोप मुकाबिल हो तो अखबार निकालो”. मीडिया की ताकत पर किसी को शक न पहले कभी था, न आज है. लेकिन जैसे तोप से जमाना आगे निकलकर मिसाइल का हो गया है, वैसे ही उनसे मुकाबला करने के लिए अखबार के साथ रेडियो भी है, टेलीविजन के बाद डिजिटल मीडिया की मारक क्षमता भी है. तो तलवार और अखबार का मुकाबला अपने अपडेटेड वर्जन के साथ चलता रहेगा.
सवाल है कि कहीं तलवार और अखबार का समझौता हो जाए तो क्या किया जाए. फिर सेल्फ रेगुलेशन के नाम पर प्रेस की आजादी को बचाए रखने का कोई अर्थ है क्या?
सरकार ने पठानकोट हमले पर एनडीटीवी के गैरजिम्मेदार प्रसारण के नाम पर एक दिन का बैन लगाया है. सरकारी कमेटी ने लंबी जांच की है. सवाल उठाना इसलिए आसान है, क्योंकि जैसे बाकी चैनलों की किसी खास विचारधारा में अपनी दिलचस्पी है और दर्शक वर्ग उसे अच्छे से समझता है.
वैसे ही एक दर्शक वर्ग एनडीटीवी को एक खास विचारधारा से प्रेरित मानता है. एक आम नजरिया है कि इसी की कीमत एनडीटीवी को चुकानी पड़ी है. हालांकि इस आसान नजरिए को स्वीकार करने में लोगों की राय बंटी हुई हो सकती है.
और तीखी होगी बहस
‘NDTV ने संबित पात्रा को अपने दफ़्तर से भगा दिया, इसलिए CBI ने प्रणय रॉय के घर छापा मारा’ के लिए चित्र परिणाम
सोशल मीडिया पर एनडीटीवी के एकदिनी बैन को आपातकाल की सुगबुगाहट माना जा रहा है. बहस और विश्लेषण अभी और तीखा होने वाला है. सोशल मीडिया पर पत्रकारों का एक तबका अपने डरावने अनुभव साझा कर रहा है. लोग कहते हैं- ‘लिखने में डर लगने लगा है. साहब, आपको जो बता रहे हैं वो दिखा नहीं सकते’.
सवाल है कि डर सिर्फ विचारधारा के नाम पर है या कोई तथ्य भी है, जिसे छापने, लिखने और दिखाने से डर लगने लगा है. क्या एनडीटीवी ने पिछले दो सालों में ऐसी कोई रिपोर्ट दिखाई है जिसकी वजह से उसे सरकार से डरने की जरूरत है? विरोध तो सिर्फ विचारधारा के स्तर पर है, तथ्यों से इसका कोई लेना-देना है क्या?
अगर सरकार ने एनडीटीवी को एक विचारधारा के प्रति झुकाव रखने पर दुश्मनी निकाली है, तब तो पूरी पत्रकार बिरादरी को एकजुट हो जाना चाहिए. लेकिन सारे टेलीविजन चैनल एकजुट होंगे क्या? टेलीविजन वालों की दो तरह की प्रतिक्रिया है. एक खुलकर विरोध कर रहे हैं. दूसरे मुस्कान वाली चुप्पी ओढ़े हैं.
टेलीविजन की सेल्फ रेगुलेशन वाले संगठन से भी ज्यादा उम्मीद नहीं है. प्रतिक्रिया इस आधार पर हो सकती है कि कमेटी में किस विचारधारा के लोगों का दबदबा है.
लाइव इंडिया को किया था ऑफ एयर
2007 में लाइव इंडिया चैनल को फर्जी स्टिंग चलाने पर सूचना प्रसारण मंत्रालय ने एक महीने के लिए ऑफ एयर कर दिया था. उसके बाद ये पहला मौका है जब सूचना प्रसारण मंत्रालय ने किसी चैनल को एक दिन के ऑफ एयर करने की सजा सुनाई है. सजा की पड़ताल की जा सकती है कि बाकी चैनल उस वक्त क्या दिखा रहे थे? चैनल ने क्या दिखाया जिसके आधार पर ये फैसला हुआ.
संभव है कि मंत्रालय को अपना फैसला वापस भी लेना पड़ जाए. लेकिन ये सच में आपातकाल की सुगबुगाहट है क्या? या हम अपनी विचारधारा से प्रेरित होकर खौफ खाने का नाटक करने लगे हैं.
Related Posts Plugin for WordPress, Blogger...

TOC NEWS

TOC NEWS

TIOC

''टाइम्स ऑफ क्राइम''

''टाइम्स ऑफ क्राइम''


23/टी -7, गोयल निकेत अपार्टमेंट, जोन-1,

प्रेस कॉम्पलेक्स, एम.पी. नगर, भोपाल (म.प्र.) 462011

फोन नं. - 0755- 4078525,

98932 21036,08305703436

किसी भी प्रकार की सूचना, जानकारी अपराधिक घटना एवं विज्ञापन, समाचार, एजेंसी और समाचार-पत्र प्राप्ति के लिए हमारे क्षेत्रिय संवाददाताओं से सम्पर्क करें।

http://tocnewsindia.blogspot.com




यदि आपको किसी विभाग में हुए भ्रष्टाचार या फिर मीडिया जगत में खबरों को लेकर हुई सौदेबाजी की खबर है तो हमें जानकारी मेल करें. हम उसे वेबसाइट पर प्रमुखता से स्थान देंगे. किसी भी तरह की जानकारी देने वाले का नाम गोपनीय रखा जायेगा.
हमारा mob no 09893221036, 09009844445 & हमारा मेल है E-mail: timesofcrime@gmail.com, toc_news@yahoo.co.in, toc_news@rediffmail.com

''टाइम्स ऑफ क्राइम''

23/टी -7, गोयल निकेत अपार्टमेंट, जोन-1, प्रेस कॉम्पलेक्स, एम.पी. नगर, भोपाल (म.प्र.) 462011
फोन नं. - 0755- 4078525, 98932 21036, 09009844445

किसी भी प्रकार की सूचना, जानकारी अपराधिक घटना एवं विज्ञापन, समाचार, एजेंसी और समाचार-पत्र प्राप्ति के लिए हमारे क्षेत्रिय संवाददाताओं से सम्पर्क करें।





appointment times of crime

appointment times of crime

Followers

add tocn

add tocn
आवश्यकता है ‘‘टाइम्स ऑफ क्राइम’’ भारत के सर्वश्रेष्ठ निर्भीक, निष्पक्ष व खोजपूर्ण साप्ताहिक समाचार पत्र ‘‘टाइम्स ऑफ क्राइम’’ हेतु सम्पूर्ण भारत में नगर/ब्लाक/पंचायत स्तर पर क्षेत्रीय प्रतिनिधियों/संवाददाताओं की आवश्यकता है जो अपने गृह नगर क्षेत्र में समाचार/विज्ञापन/प्रसार सम्बन्धी नेटवर्क का संचालन कर सके। आवेदक के आवासीय क्षेत्र के समीपस्थ स्थानीय नियुक्ति। सम्पूर्ण विवरण योग्यता प्रमाण पत्र, पासपोर्ट आकार के नवीनतम फोटोग्राफ सहित अधिकतम 25.07. 2013 तक डाक/कोरियर द्वारा आवेदन करें।

toc news

प्रतिनिधियों/संवाददाताओं की आवश्यकता है

review:


म.प्र., छ.ग.के समस्त नगर/ ब्लाक/ ग्राम पंचायत स्तर/ वार्ड में संवाददाता बनाना है


भारत के सर्वश्रेष्ठ निर्भीक, निष्पक्ष व खोजपूर्ण साप्ताहिक समाचार पत्र ‘‘टाइम्स ऑफ क्राइम’’ हेतु सम्पूर्ण भारत में नगर/ब्लाक/पंचायत स्तर पर क्षेत्रीय प्रतिनिधियों/संवाददाताओं की आवश्यकता है जो अपने गृह नगर क्षेत्र में समाचार/विज्ञापन/प्रसार सम्बन्धी नेटवर्क का संचालन कर सके। आवेदक के आवासीय क्षेत्र के समीपस्थ स्थानीय नियुक्ति। सम्पूर्ण विवरण योग्यता प्रमाण पत्र, पासपोर्ट आकार के नवीनतम फोटोग्राफ सहित अधिकतम 30.10. 2016 तक डाक/कोरियर द्वारा आवेदन करें।




टाइम्स ऑफ क्राइम

23/टी-7, गोयल निकेत अपार्टमेंट, पे्रस काम्पलेक्स,

जोन-1, एम. पी. नगर भोपाल (म.प्र.) दूरभाष क्र.-0755-4078525

मोबाइल 098932 21036, 08305703436



आवेदन पत्र का प्रारूप


1. आवेदक का नाम...................................

2. आवेदित पद........................................

3. कार्य क्षेत्र...........................................

4. पिता/पति का नाम .................................

5. जाति, धर्म एवं राष्ट्रीयता...........................

6. जन्म तिथि .........................................

7. वर्तमान तथा स्थायी पता.............................

8. शैक्षणिक योग्यता..................................

9. पूर्व अनुभव(यदि कोई हो).........................

10. फोन/मोबाइल नं..................................

11.आवेदन के तिथि...................................


सहित हस्ताक्षर