Showing posts with label अंतरराष्ट्रीय. Show all posts
Showing posts with label अंतरराष्ट्रीय. Show all posts

Wednesday, April 8, 2020

अमेरिकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप की धमकी के बाद भारत ने अपना रुख बदला विपक्ष ने मोदी सरकार को आड़े हाथ लिया, जाने क्या हुआ

अमेरिकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप की धमकी के बाद भारत ने अपना रुख बदला विपक्ष ने मोदी सरकार को आड़े हाथ लिया, जाने क्या हुआ





TOC NEWS @ www.tocnews.org
खबरों और जिले, तहसील की एजेंसी के लिये सम्पर्क करें : 98932 21036
अमेरिकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप ने भारत को धमकी भरे अंदाज में कहा है कि अगर भारत कोरोना वायरस से लड़ने के लिए महत्वपूर्ण दवा का निर्यात नहीं करता है तो उसे अमेरिका का बदला झेलना पड़ेगा। ट्रंप के इस बयान के बाद भारत के विदेश मंत्रालय की ओर से भी बयान सामने आया है।
ट्रम्प ने शनिवार को कहा था- मोदी से हाइड्रॉक्सीक्लोरोक्विन दवा की खेप देने का आग्रह किया; धमकी देते दिखे
विदेश मंत्रालय ने मंगलवार को जवाब- हाइड्रॉक्सीक्लोरोक्विन और पैरासिटामॉल कोरोना से सबसे ज्यादा प्रभावित देशों में भेजी जाएंगी
नई दिल्ली. हाइड्रोक्लोरिन दवा को लेकर अमेरिकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप की धमकी के बाद भारत ने अपना रुख बदल लिया है। केंद्र की मोदी सरकार ने अब इस दवाई के निर्यात पर लगी रोक को हटा लिया है। इसका फैसला आज पीएम मोदी के प्रधान सलाहकार पीके मिश्रा की अध्यक्षता में हुई उच्चस्तीय बैठक में लिया गया।  इसके साथ ही विपक्ष ने मोदी सरकार को आड़े हाथ ले लिया है। कांग्रेस खास तौर पर आक्रामक मुद्रा में आ गई है।
भारत ने आखिरकार हाइड्रॉक्सीक्लोरोक्विन के एक्सपोर्ट पर मुहर लगा दी। सरकार ने मंगलवार को साफ किया किकुछ देशों में हाइड्रॉक्सीक्लोरोक्विन दवा का निर्यात किया जाएगा। हालांकि, देश की जरूरतों को प्राथमिकता देंगे । इस बात का भी ध्यान रखा जाएगा कि अन्य देश में कितने केस हैं। भारत का बयान अमेरिकी चेतावनी 6 घंटे बाद आया। भारतीय समयानुसार तड़के 4 बजे राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रम्प ने धमकी देते हुए कहा था कि अगर भारत उनके व्यक्तिगत आग्रह के बावजूद दवा नहीं भेजता तो उस पर कार्रवाई की जाएगी।
हाइड्रॉक्सीक्लोरोक्विन भारत में मलेरिया के इलाज की पुरानी और सस्ती दवा है। कोरोना के बढ़ते संक्रमण के बीच देश के स्वास्थ्यकर्मी यह दवा एंटी-वायरल के रूप में इस्तेमाल कर रहे हैं। इसके चलते सरकार ने पिछले महीने हाइड्रोक्सीक्लोरोक्विन के निर्यात पर प्रतिबंध लगा दिया था। नासा के वैज्ञानिकों ने भी मलेरिया निरोधकहाइड्रॉक्सीक्लोरोक्विन को कोरोना से लड़ने में कारगर बताया था।
प्रेस कांफ्रेंस के दौरान ट्रम्पसे सवाल पूछा गया, ‘‘क्या आपको चिंता है कि आपकी तरफ से अमेरिका के उत्पाद के एक्सपोर्ट में पाबंदी लगाने की प्रतक्रिया आएगी, जैसे की भारतीय पीएम मोदी ने अमेरिका को हाइड्रॉक्सीक्लोरोक्वीन न देने का डिसीजन लिया है।’’ जवाब देते हुए ट्रम्प ने कहा,‘‘मुझे यह डिसीजन पसंद नहीं आया। मैंने नहीं सुना कि यह उनका डिसीजन है। हां मैनें यह सुना है कि उन्होंने कुछ देशों के लिए पाबंदी लगाई है। मैंने कल उनसे बात की थी। हमारी अच्छी बात हुई। मैं बहुत आश्चर्यचकित होऊंगा अगर वे दवा पर पाबंदी लगाते हैं। क्योंकि भारत कई सालों से अमेरिका से व्यापार में लाभ ले रहा है।मैंने रविवार सुबह प्रधानमंत्री मोदी से कहा था कि अगर वह हमारी (हाइड्रॉक्सीक्लोरोक्वीन की) सप्लाई को अनुमति देते हैं तो हम उनकी सराहना करेंगे। अगर वह एसा नहीं करते हैं तो इसका जवाब दिया जाएगा, आखिर क्यों नहीं दिया जाए?’’ बता दें कि शनिवार कोअमेरिकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रम्प ने भारत से गुहार लगाई थी कि बीमारी से निपटने के लिए हाइड्रॉक्सीक्लोरोक्विन की खेप भेजें।
विदेश विभाग के प्रवक्ता अनुराग श्रीवास्तव ने कहा, ‘‘भारत ने अंतरराष्ट्रीय समुदाय के साथ हमेशा से सहयोग किया और बेहतर संबंध रखे। कई देशों में भारत के लोग रह रहे हैं, कोरोना के चलते उन्हें निकाला गया। मानवीयता के आधार पर सरकार ने फैसला लिया कि हाइड्रॉक्सीक्लोरोक्विन और पैरासिटामॉल को पड़ोस के उन देशों को भी भेजा जाएगा, जिन्हें हमसे मदद की आस है।’’
इटली और स्पेन के बाद अमेरिका में मौतों का आंकड़ा 10 हजार से ज्यादा हो गया है। सबसे ज्यादा प्रभावित न्यूयॉर्क स्टेटमें पांच हजार मौतें हुई हैं। इनमें आधा से ज्यादा केवल न्यूयॉर्कसिटी में है। वहीं, राज्य में एक लाख 20 हजार से ज्यादासंक्रमित हैं और 16 हजार से ज्यादा लोगों को अस्पताल मेंभर्ती कराया गया है। वहीं, अमेरिका ने एशियाई देश में फंसेअपने 29 हजार नागरिकों को 13 विशेष विमानों से अपने देशबुला लिया है। ये नागरिक साउथ एंड सेंट्रल एशियाई देश भारत,पाकिस्तान, बांग्लादेश, नेपाल, उज्बेकिस्तान और तुर्कमेनिस्तानमें फंसे हुए थे। यह जानकारी दक्षिण और मध्य एशियाई मामलोंकी अमेरिका की सीनियर डिप्लोमेट एलिस वेल्स ने प्रेस वार्ता मेंदी। अकेले भारत में ही 1300 अमेरिकी नागरिक थे।

Sunday, March 29, 2020

कोरोना संकट से अर्थव्यवस्था को नुकसान, चिंता में वित्त मंत्री ने की आत्महत्या, रेलवे ट्रैक पर मिला शव

German State Finance Minister Found Dead | Zero Hedge
जर्मनी के हेस्से राज्य के वित्त मंत्री थॉमस स्चिफर

TOC NEWS @ www.tocnews.org
खबरों और जिले, तहसील की एजेंसी के लिये सम्पर्क करें : 98932 21036

जर्मनी के हेस्से राज्य के वित्त मंत्री थॉमस स्चिफर का शव शनिवार को फ्रेंकफर्ट के पास एक रेलवे ट्रैक पर मिला था और अब पुलिस ने इसे आत्महत्या का मामला बताया है।

पुलिस को आशंका है कि थोमस शेफर ने आत्महत्या की. उनका शव रेलवे ट्रैक के पास मिला. शेफर हेस्से राज्य के वित्त मंत्री थे. हेस्से प्रांत के सबसे बड़े शहर फ्रैंकफर्ट को जर्मनी की वित्तीय राजधानी के रूप में भी जाना जाता है. पुलिस के मुताबिक, शनिवार को फ्रैंकफर्ट और माइंज शहर के बीच हाई स्पीड रेलवे ट्रैक पर एक शव मिलने की सूचना मिली. कुछ ही देर बाद शव की शिनाख्त प्रांत के वित्त मंत्री शेफर के रूप में हुई.
मौके का मुआयना करने के बाद जांचकर्ताओं आत्महत्या की ओर इशारा किया. पुलिस ने इससे ज्यादा और कोई जानकारी नहीं दी. फ्रैंकफर्ट शहर से निकलने वाले प्रमुख दैनिक अखबार फ्रांकफुर्टर अलगेमाइन त्साइंटुग के मुताबिक, अपनी जान लेने से पहले शेफर ने एक सुसाइड नोट भी छोड़ा था. अखबार के मुताबिक मामले की जांच से जुड़े सूत्रों ने उसे यह जानकारी दी है.
पत्नी और दो बच्चों को अपने पीछे छोड़ गए शेफर बीते दो दशक से राज्य की राजनीति में सक्रिय थे. वह बीते 10 साल से प्रांत के वित्त मंत्री थे. उन्हें आने वाले वर्षों में प्रांत के प्रीमियर के रूप में उभरते नेता के तौर पर भी देखा जा रहा था. 54 साल के शेफर जर्मन चांसलर अंगेला मैर्केल की पार्टी सीडीयू के नेता थे. वह अक्सर सार्वजनिक रूप से सामने आते रहते थे.
शेफर की मौत से स्तब्ध हेस्से के मुख्यमंत्री फोल्कर बूफिये रविवार को जब मीडिया के सामने आए तो उनकी आंखों में आंसू थे. बूफिये ने कहा, "उनकी सबसे प्रमुख चिंता यही थी कि क्या जनता की बड़ी उम्मीदें पूरी करने में सक्षम हो पाऊंगा, विशेष रूप से वित्तीय मदद के मामले में.” कोरोना वायरस के चलते जर्मनी के राजनीतिक गलियारे में किस किस्म का तूफान घुमड़ रहा है, इसका अंदाजा बूफिये के बयान से हुआ, "उनके सामने इससे बाहर निकलने का कोई साफ रास्ता नहीं था. वह मायूस थे और उन्हें हमारा साथ छोड़ना पड़ा. इससे हम सन्न हैं, मैं स्तब्ध हूँ.”
जर्मनी की ज्यादातर राजनीति पार्टियां शेफर की मृत्यु से अवाक सी हैं. वामपंथी पार्टी डी लिंके के नेता फाबियो दे मासी ने ट्विटर पर लिखा, "हम अकसर राजनेताओें को आम इंसान के तौर पर नहीं देखते या उनके उस बोझ को भी नहीं देखते जो राजनीति उन्हें देती है.”

Saturday, March 28, 2020

कोरोना वायरस को मारने के लिए इंग्लैंड और रूस ने भी टीका तैयार कर लिया

कोरोना वायरस की दवा: क्या सच में आ गई ...
कोरोना वायरस को मारने के लिए इंग्लैंड और रूस ने भी टीका तैयार कर लिया
TOC NEWS @ www.tocnews.org
खबरों और जिले, तहसील की एजेंसी के लिये सम्पर्क करें : 98932 21036
कोरोना वायरस महामारी से लड़ने के लिए अब पूरी दुनिया के साइंटिस्ट एकजुट हो गए हैं | इस बीच एक अच्छी खबर सामने आ रही है | कोरोना वायरस को मारने के लिए इंग्लैंड और रूस ने भी टीका तैयार कर लिया है | सबसे अच्छी बात ये है कि दोनो की टीकों के नतीजे काफी आशाजनक हैं | इंग्लैंड के ऑक्सफोर्सड यूनिवर्सिटी ने कोरोना वायरस का टीका तैयार कर लिया है |
यहां 18-55 साल तक के लोगों में इस टीके के ट्रायल शुरू हो चुके हैं | ChAdOx nCoV-19 नाम की दवा को इंग्लैंड की दवा प्राधिकरण ने मंजूरी दी है | इसी तरह रूस में भी साइंटिस्टों ने इस जानलेवा वायरस की काट निकाल ली है | रूस की वेक्टर स्टेट विरोलॉजी एंड बायोटेक सेंटर ने एक टीका तैयार किया है | इसके ट्रायल जानवरों पर जारी है | इसके भी जल्द लॉन्च होने की उम्मीद है|
ड्यूक युनिवर्सिटी के प्रमुख जोनाथन क्विक का कहना है कि एक बार टीकों को सरकारी मंजूरी मिलने के बाद भी इसके रिएक्शन को ध्यान में रखना जरूरी होता है | हालांकि दुनिया के कई देशों में टीके तैयार करने का काम जारी है | लेकिन सभी सुरक्षा मानदंड़ों पर खरे उतरने के बाद ही आम लोगों को ये टीके उपलब्ध हो सकते हैं | साथ ही इसकी कीमत भी एक अहम रोल अदा करती है | काफी महंगे होने पर इसे आम लोगों तक पहुंचा पाना एक चुनौती ही है | बताते चलें कि अब तक पूरी दुनिया में कोरोना वायरस की वजह से 5.97 लाख लोग संक्रमित हो चुके हैं | इस जानलेवा वायरस से 27,364 लोग दम तोड़ चुके हैं |

Sunday, March 22, 2020

कोरोना वायरस का तांडव : इटली में 24 घंटे में 793 और फ्रांस में 112 लोगों की मौत

इटली में 24 घंटे में 793 मौत के लिए इमेज नतीजे
कोरोना वायरस का तांडव : इटली में 24 घंटे में 793 और फ्रांस में 112 लोगों की मौत 
TOC NEWS @ www.tocnews.org
खबरों और जिले, तहसील की एजेंसी के लिये सम्पर्क करें : 98932 21036
कोरोना वायरस की पकड़ चीन पर कमजोर पड़ती जा रही है लेकिन इसने दुनिया के बाकी हिस्सों को अपने पंजे में जकड़ लिया है। भारत, अमेरिका सहित पश्चिमी देश बुरी तरह इस वायरस की चपेट में आ गए हैं।
इटली और फ्रांस में कोरोना वायरस का भयावह रूप देखने को मिल रहा है। इटली में शनिवार को कोरोना वायरस से संक्रमित 793 लोगों की मौत हो गई जबकि फ्रांस में 24 घंटे में कोरोना वायरस से 112 और लोगों की जान गई है।
चीन से ज्यादा इटली में गई लोगों की जान
इटली में वायरस की स्थिति गंभीर हो गई है। अब तक यहां मृतकों की संख्या 4825 हो गई है। यह आंकड़ा चीन से कहीं ज्यादा है। मिलान के पास उत्तर लोमबार्डी में मृतकों की संख्या तीन हजार से अधिक हो गई है। यह इटली में मरने वालों की कुल संख्या का करीब दो तिहाई है। इटली में शुक्रवार से 1420 लोगों की मौत हो चुकी है। इटली की सरकार कोरोना वायरस के संक्रमण को रोकने के लिए सभी उपाय कर रही है बावजूद इसके देश में संक्रमण बढ़ता जा रहा है। कोरोना वायरस व्यापक असर को देखते हुए इटली के सभी क्षेत्रों में लॉकडाउन कर दिया गया है। लोगों का क्वरेंटाइन में इलाज किया जा रहा है।
इटली के शहर लॉकडाउन
वायरस के संक्रमण को देखते हुए देश के सभी पार्कों एवं खेल के मैदानों को बंद कर दिया गया है। नागरिकों को सप्ताहांत में यात्रा की मनाही की गई। उत्तरी शहर इमीलिया रोमागना में अधिकारियों ने जॉगिंग, साइक्लिंग और टहलने पर रोक लगा दिया है।
फ्रांस में महामारी का रूप लिया
यूरोप के एक और देश फ्रांस की हालत भी बिगड़ती जा रही है। यहां पिछले 24 घंटे में कोरोना वायरस से संक्रमित 112 लोगों की मौत हो गई है। यह फ्रांस में एक दिन में इस वायरस से होने वाली मौतों का सबसे बड़ा आंकड़ा है। इसके साथ ही फ्रांस में मौत का आंकड़ा 562 पहुंच गया है। फ्रांस में करीब 6000 लोग अस्पतालों में भर्ती हैं। फ्रांस में इस वायरस ने महामारी का रूप ले लिया है। वायरस के खतरे को देखते हुए फ्रांस के कई शहर लॉकडाउन से गुजर रहे हैं। शहरों में लोगों ने खुद को कैद कर लिया  है।
दुनिया के 185 देश चपेट में
दुनिया भर में कोरोना वायरस के अब तक 267013 मामले सामने आ चुके हैं और विश्व भर में 11201 लोगों की मौत हो चुकी है। इस वायरस ने 185 देशों को अपनी चपेट में ले लिया है। अकेले चीन में 81416 लोग इस वायरस से संक्रमित हुए। इटली में संक्रमित लोगों का आंकड़ा 47021 और स्पेन में 19980 पहुंच गया है।

Sunday, March 1, 2020

यह है दुनिया का सबसे गंदा आदमी, जो नहीं नहाया 60 सालों से

यह है दुनिया का सबसे गंदा आदमी, जो नहीं नहाया 60 सालों से

दुनिया में बहुत से लोग ऐसे हैं जो अपनी हरकतों और करतूतों से फेमस हुए हैं। उनमें से एक इंसान ऐसा भी है जो दुनिया का सबसे गंदा माना जाता है।

इरान के रहने वाले अमु हाजी का कहना है कि वह पिछले 60 सालों से नहीं नहाया है और वह 80 साल के है। वह यह भी कहता है कि उसने 60 साल से अपने शरीर पर पानी की एक बूंद तक नहीं डाली है क्योंकि उसे पानी से डर लगता है। वह यह भी कहता है कि अगर वह नहायेगा तो बीमार पड़ जाएगा। हाजी कभी भी अपने खाने पीने की चीजों को साफ-सुथरा नहीं रखता क्योंकि उसे साफ-सुथरी चीजें पसंद नहीं है। वह पीने के लिए गंदे पानी का प्रयोग करता है और खाने के लिए भी जानवरों का सड़ा गला मांस खाता है।

 
 
Third party image reference

हाजी को जब आराम करने का मन होता है तब वह सिगार पीता है। जिसमें तंबाकू की जगह जानवरों का मल-मूत्र भरा हुआ होता है। हाजी को जमीन में गड्ढा खोदकर सोने में बहुत खुशी मिलती है। इसके अलावा वह ईट के बनाए हुए ढांचो में भी सोता है। उसे बाल रखने से भी परहेज है जब उसके सर के बाल बड़े हो जाते हैं तो वह इन्हें जला देता है और उसे फटे कपड़े पहनना ही पसंद हैं। एक रिपोर्ट के अनुसार हाजी शुरुआत से ऐसा नहीं था लेकिन उसकी जिंदगी में कुछ ऐसे पल आए हैं जिसके बाद वह ऐसा हो गया।
दोस्तों आपको यह खबर कैसी लगी नीचे कमेंट में जरूर बताएं साथ ही इस खबर को लाइक और शेयर करना ना भूलें

Monday, February 24, 2020

ट्रंप होटल के जिस कमरें में रुकेंगे देखिए उसकी तस्‍वीरें, एक रात का किराया चौंकाने वाला

ट्रंप होटल के जिस कमरें में रुकेंगे देखिए उसकी तस्‍वीरें, एक रात का किराया चौंकाने वाला

TOC NEWS @ www.tocnews.org
खबरों और जिले, तहसील की एजेंसी के लिये सम्पर्क करें : 98932 21036
नई दिल्‍ली। पूरी दुनिया की आंखें इस समय भारत पर हैं क्‍योंकि दुनिया के सबसे शक्तिशाली देश अमेरिका के राष्‍ट्रपति इस समय भारत में हैं। अमेरिका के राष्‍ट्रपति डोनाल्‍ड ट्रंप अपनी पत्‍नी मेलेनिया ट्रंप, बेटी इवांका ट्रंप और दामाद जेयर्ड कुशनर के साथ अपनी पहली भारत यात्रा पर सुबह 11 बजरक 40 मिनट पर अहमदाबाद पहुंचे, जहां खुद प्रधानमंत्री मोदी ने ट्रंप को गले लगाकर उनका स्‍वागत किया।
भारत ने डोनाल्‍ड ट्रंप की यात्रा को यादगार बनाने के लिए कोई कसर नहीं छोड़ी है। अहमदाबाद में लगभग 70 लाख लोग उनके स्‍वागत के लिए तत्‍पर हैं। ऐसे में कोई आश्‍चर्य नहीं है कि डोनाल्‍ड ट्रंप नई दिल्‍ली के अल्‍ट्रा लग्‍जीरियर आईटीसी मौर्य के चाणक्‍य ग्रांड प्रेसिडेंशियल स्‍यूट में रुकेंगे। इस स्‍यूट का किराया 8 लाख रुपए प्रति रात है। इस स्‍यूट में तमाम आधुनिक सुविधाएं और लग्‍जरी प्रदान की जाती हैं।

 
 
Third party image reference
इससे पहले जितने भी अमेरिकी राष्‍ट्रपति जैसे बराक ओबामा, बिल क्लिंटन और जॉर्ज डब्‍ल्‍यू बुश ने भारत की यात्रा की है, वे सभी इसी स्‍यूट में रुके थे। आइए हम आपको इस खास ग्रांड स्‍यूट के बारे में कुछ रोचक जानकारी बताते हैं और वहां की कुछ तस्‍वीरें दिखाते हैं।

 
 
Third party image reference
आईटीसी की वेबसाइट पर लिस्‍ट इस स्‍यूट के बारे में कहा गया है कि यह एक टू बेडरूप मेंशन है, जहां सिल्‍क पैनल वाली दिवारें हैं। इसकी खिड़कियों में बुलटप्रूफ कांच लगाए गए हैं। इस मेंशन के लिए अलग से एक प्राइवेट प्रवेश द्वार और पार्किंग भी है। इसमें एक प्राइवेट हाई स्‍पीड एलीवेटर, अत्‍याधुनिक सिक्‍यूरिटी सिस्‍टम और एक प्रेसिडेंशियल फ्लोर बटलर की सुविधा है। खिड़कियों पर लगे कांच बुलटप्रूफ हैं।

 
 
Third party image reference
इस स्‍यूट में एक 12 लोगों के लिए पीकॉक थीम पन बना एक प्राइवेट डाइनिंग रूम भी है। स्‍यूट के लिए एक प्राइवेट शेफ नियुक्‍त होता है। यहां की सबसे खास बात यह है कि यहां फूड परीक्षण के लिए एक माइक्रोबायोलॉजिकल परीक्षणशाला भी है।

 
 
Third party image reference
रूम के साथ ही प्रेसिडेंशियल स्‍यूट का बाथरूम भी बहुत अधिक लग्‍जरी है। इसमें रेनफॉल शॉवर के साथ एक बड़ा बाथटब है। मोतियों से सजी एक्‍सेसरीज वाले इस बाथरूम में एक मिनी स्‍पा और जिम भी है।

 
 
Third party image reference
अमेरिका के राष्‍ट्रपति को अपने घर से बाहर घर जैसा आराम और प्रत्‍येक सुविधा उपलब्‍ध कराने के लिए आईटीसी मौर्य के चाणक्‍य प्रेसिडेंशियल स्‍यूट में निजता और आराम का पूरा ध्‍यान रखा गया है। यह पूरा विंग होटल से एकदम अलग है और इसमें एक बिजनेस मीटिंग रूम और पूर्ण निजता वाला एक बोर्डरूम भी है।

Tuesday, February 4, 2020

कोरोना वायरस चीनी नागरिकों व चीन गए विदेशियों के वैध वीजा किए रद्द

कोरोना वायरस चीनी नागरिकों व चीन गए विदेशियों के वैध वीजा किए रद्द
TOC NEWS @ www.tocnews.org
खबरों और जिले, तहसील की एजेंसी के लिये सम्पर्क करें : 98932 21036
बीजिंग: चीन में कोरोना वायरस से मृतकों की संख्या 425 पर पहुंचने के साथ भारत ने चीनी नागरिकों और पिछले दो हफ्तों में चीन गए विदेशी नागरिकों के मौजूदा वीजा को रद्द कर वीजा नियमों को मंगलवार को और सख्त कर दिया। चीन के वुहान शहर में कोरोना वायरस के प्रकोप के मद्देनजर दो फरवरी को, भारत ने चीनी यात्रियों और चीन में रह रहे विदेशी नागरिकों के लिए ई-वीजा सुविधा पर अस्थायी रोक लगा दी थी।
चीन के स्वास्थ्य अधिकारियों ने मंगलवार को कहा कि सोमवार को वायरस के कारण 64 मौतों के साथ चीन में मृतकों की संख्या 425 पर पहुंच गई और घातक बीमारी के संक्रमण की चपेट में आने वाले लोगों की संख्या 20,438 हो गई। यहां भारतीय दूतावास की घोषणा में कहा गया है, 'वे सभी जो पहले से भारत में हैं (नियमित या ई-वीजा पर) और जो 15 जनवरी के बाद चीन से गए हैं, उनसे भारत सरकार के स्वास्थ्य एवं परिवार कल्याण मंत्रालय के हॉटलाइन नंबर (+91-11-23978046 और ईमेल : ncov2019@gmail.com) पर संपर्क करने का अनुरोध किया जाता है।'
वीजा की वैधता के बारे में दूतावास ने कहा, 'भारतीय दूतावास और हमारे वाणिज्य दूतावासों को चीनी नागरिकों के साथ ही चीन में रहने वाले या पिछले दो हफ्तों में चीन आने वाले विदेशी नागरिकों से बहुत सारे प्रश्न मिल रहे हैं कि वे भारत जाने के लिए अपने वैध एकल/ बहुल प्रवेश वीजा का प्रयोग कर सकते हैं या नहीं।' दूतावास ने कहा, 'यह स्पष्ट किया गया है कि मौजूदा वीजा अब वैध नहीं हैं।
भारत जाने के इच्छुक लोगों को भारतीय वीजा के लिए नए सिरे से आवेदन करने के लिए बीजिंग में भारतीय दूतावास (visa.beijing@mea.gov.in) या शंघाई में (Ccons.shanghai@mea.gov.in) और गुआंगझोउ(Visa.guangzhou@mea.gov.in) में वाणिज्य दूतावासों से संपर्क करना होगा। इस संबंध में इन शहरों में भारतीय वीजा आवेदन केंद्रों (www.blsindia-china.com) से भी संपर्क किया जा सकता है।' दूतावास ने कहा कि भारत की किसी भी यात्रा से पहले वीजा की वैधता के बारे में मालूम करने के लिए चीन में भारतीय दूतावास/ वाणिज्य दूतावासों के वीजा विभाग से संपर्क किया जा सकता है। घातक वायरस भारत समेत 25 से अधिक देशों में फैल चुका है।

Sunday, January 5, 2020

सुलेमानी की हत्या का बदला लेने के लिए सही वक्त और जगह का इंतज़ार: ईरानी सिक्योरिटी काउंसिल

सुलेमानी, हत्या के लिए इमेज परिणाम
सुलेमानी की हत्या का बदला लेने के लिए सही वक्त और जगह का इंतज़ार: ईरानी सिक्योरिटी काउंसिल
TOC NEWS @ www.tocnews.org
खबरों और जिले, तहसील की एजेंसी के लिये सम्पर्क करें : 98932 21036
इस्लामिक रेवोल्यूशन गार्ड कॉर्प्स (IRGC) के कुद्स फोर्स के कमांडर लेफ्टिनेंट जनरल कासेम सोलेमानी की हत्या के बाद ईरान की सुप्रीम नेशनल सिक्योरिटी काउंसिल (SNSC) बदला लेने के लिए सही वक्त और जगह का इंतज़ार कर रही है।
सोलेमानी की हत्या के बाद शुक्रवार को एक बयान में SNSC ने कहा, “ईरान के सुप्रीम नेशनल सिक्योरिटी काउंसिल ने अपने असाधारण सत्र के दौरान आज इस घटना के विभिन्न पहलुओं की जांच की और उचित निर्णय लिए; और घोषणा की कि संयुक्त राज्य अमेरिका का शासन इस आपराधिक साहसिकता के सभी परिणामों के लिए जिम्मेदार होगा।”
उन्होंने कहा, “अमेरिका को पता होना चाहिए कि जनरल सोलेमानी के खिलाफ आपराधिक हमला पश्चिम एशिया में इसकी सबसे बड़ी रणनीतिक गलती थी, और अमेरिका इस गलती के परिणाम से आसानी से दूर नहीं होगा।”
आईआरजीसी ने शुक्रवार सुबह एक बयान में घोषणा की कि इराक के लोकप्रिय मोबलाइजेशन यूनिट्स (पीएमयू) के दूसरे कमांड के जनरल सोलीमनी और अबू महदी अल-मुहांडिस शातिर ऑपरेशन में शहीद हो गए।
सोलीमनी की हत्या के बाद, इस्लामिक क्रांति के नेता अयातुल्ला सैय्यद अली खामेनेई ने कहा कि जिन लोगों ने IRGC Quds Force कमांडर की हत्या की, उन्हें कठोर बदला लेने का इंतजार करना चाहिए अयातुल्ला खामेनी ने कहा कि “पृथ्वी पर सबसे क्रूर लोग” ने “सम्माननीय” कमांडर की हत्या की, जिसने “दुनिया की बुराइयों और डाकुओं के खिलाफ वर्षों तक साहसपूर्वक लड़ाई लड़ी।”
सएनएससी ने कहा, “निस्संदेह, यह अपराध आतंकवाद के खिलाफ लड़ाई के बड़े कमांडरों के खिलाफ दाएश और ताकफिरी आतंकवादियों का बदला था, जो अमेरिका द्वारा इराक और सीरिया में आतंकवाद के उन्मूलन के सम्मानजनक प्रतीकों के खिलाफ किया गया था,” एसएनएससी ने कहा जोर दिया कि शीर्ष ईरानी और इराकी कमांडरों की शहादत भविष्य में दोनों देशों के बीच एक अटूट बंधन का एक और संकेत होगी

Thursday, December 19, 2019

अमेरिकी हाउस ऑफ रिप्रेजेंटेटिव ने ट्रंप के खिलाफ पारित किया महाभियोग

अमेरिकी हाउस ऑफ रिप्रेजेंटेटिव ने ट्रंप के खिलाफ पारित किया महाभियोग

TOC NEWS @ www.tocnews.org
खबरों और जिले, तहसील की एजेंसी के लिये सम्पर्क करें : 98932 21036
वाशिंगटन। अमेरिकी हाउस ऑफ रिप्रेजेंटेटिव ने राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप के खिलाफ संसद के काम में बाधा डालने और पद के दुरुपयोग के आरोप में महाभियोग प्रस्ताव पारित कर दिया।
ट्रंप अमेरिका के तीसरे राष्ट्रपति बन गए जिनके खिलाफ महाभियोग प्रस्ताव पारित किया गया है। ट्रंप पर जो बाइडेन समेत अन्य प्रतिद्वंद्वियों की छवि खराब करने के लिए यूक्रेन से गैरकानूनी तरीके से मदद मांगने का आरोप है। इसके अलावा उनपर संसद के काम में बाधा डालने का भी आरोप है।
निचले सदन से प्रस्ताव पारित हो जाने के बाद अब ऊपरी सदन सीनेट में उनपर मुकदमा चलेगा। सीनेटर इस बात पर फैसला लेंगे कि ट्रंप को उनके पद से हटाया जाए या नहीं।

Monday, October 28, 2019

बगदादी की पत्नी के जरिये अमेरिकी खुफिया एजेंसी उस तक पहुंची : न्यूयॉर्क टाइम्स

बगदादी की पत्नी के जरिये अमेरिकी खुफिया एजेंसी उस तक पहुंची : न्यूयॉर्क टाइम्स
TOC NEWS @ www.tocnews.org
खबरों और जिले, तहसील की एजेंसी के लिये सम्पर्क करें : 98932 21036
अमेरिकी समाचार पत्र 'न्यूयॉर्क टाइम्स' के अनुसार अमेरिकी खुफिया एजेंसी सीआईए को आईएस सरगना अबू बकर अल बगदादी के बारे में उसकी पत्नी से पता लगा था. बगदादी की एक पत्नी और एक संदेशवाहक को कुछ महीने पहले ही गिरफ्तार किया गया था.
समाचार पत्र के मुताबिक सीआईए ने बगदादी की पत्नी से मिली शुरुआती गुप्त सूचना के आधार पर उसके ठिकानों की सटीक पहचान करने के लिये इराकी और कुर्दिश खुफिया अधिकारियों के साथ मिलकर काम किया. इराक में कई जगहों पर उसकी गतिविधियों पर नजर रखने के लिये जासूसों को काम पर लगाया गया.
अमेरिकी अधिकारियों ने 'न्यूयॉर्क टाइम्स' को बताया कि कुर्दों को सीरिया में अकेला छोड़कर अमेरिका के वहां से निकलने के बाद भी कुर्दों ने सीआईए को बगदादी के ठिकाने के बारे में जानकारी देना जारी रखा. एक अधिकारी ने कहा कि सीरियाई और इराकी कुर्दों ने सबसे सटीक खुफिया जानकारी मुहैया कराई थी.
हमले की जगह के निकट गांव में रहने वाले लोगों से बात करने वाले इंजीनियर के मुताबिक बगदादी एक और चरमपंथी समूह हुर्रास अल दीन के एक कमांडर अबू मोहम्मद सलामा के घर में शरण लिये हुए था.
समाचार पत्र की खबर में कहा गया है कि सेना ने कम से कम दो बार अंतिम क्षणों में मिशन रोका था. हमले की अंतिम योजना पिछले सप्ताह दो से तीन दिन में बनाई गई थी.
बीते शनिवार को आईएस सरगना अबू बकर अल बगदादी ने उत्तरी सीरिया में अमेरिका के विशेष अभियान के दौरान खुद को आत्मघाती बम से उड़ा लिया था. अमेरिकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप ने रविवार को इसकी घोषणा की.
अमेरिकी राष्ट्रपति ने रविवार को संवाददाता सम्मलेन में कहा था कि बगदादी की मौत के बाद उसके शव के टुकड़ों की डीएनए जांच की गई है, जिसमें उसकी पहचान की पुष्टि हुई.
न्यूयॉर्क टाइम्स की खबर में यह भी कहा गया है कि साल 2000 में बगदादी जब इराक में अमेरिका द्वारा संचालित हिरासत शिविर में था, तो उसका डीएनए नमूना लिया गया था.

Tuesday, October 8, 2019

फ्रांस ने भारत को पहला राफेल विमान सौंपा, रक्षा मंत्री बोले- ये भारत के लिए ऐतिहासिक दिन


फ्रांस ने भारत को पहला राफेल विमान सौंपा, रक्षा मंत्री बोले- ये भारत के लिए ऐतिहासिक दिन के लिए इमेज परिणाम
फ्रांस ने भारत को पहला राफेल विमान सौंपा, रक्षा मंत्री बोले- ये भारत के लिए ऐतिहासिक दिन

रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह मंगलवार को देश के लिए पहला राफेल जेट प्राप्त किया। रक्षा मंत्री इसके लिए मेरीग्नैक पहुंच चुके हैं। राजनाथ सिंह फ्रेंच मिलेट्री एयरक्राफ्ट से वहां पहुंचे हैं। राजनाथ सिंह के साथ कई अधिकारी भी मौजूद हैं। रक्षा मंत्री बोर्डोक्स में ही वह दशहरे के मौके पर शस्त्र पूजा करेंगे और राफेल में उड़ान भरेंगे।

राफेल लेने पहुंचे रक्षामंत्री राजनाथ सिंह ने कहा कि आज मुझे खुशी हो रही है कि राफेल एयरक्राफ्ट अपने समय से भारत आ रहा है, मुझे विश्वास है कि इससे हमारी वायुसेना की ताकत बढ़ेगी। मुझे आशा है कि दोनों प्रमुख लोकतंत्रों के बीच सभी क्षेत्रों में सहयोग बढ़ेगा। राजनाथ सिंह ने कहा आज भारत-फ्रांस की रणनीतिक साझेदारी में एक नया मील का पत्थर लग रहा है।


रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह ने कहा, भारत में आज दशहरा का त्योहार है जिसे विजयादशमी के नाम से भी जाना जाता है जहां हम बुराई पर जीत का जश्न मनाते हैं। यह 87वां वायु सेना दिवस भी है, इसलिए यह दिन कई मायनों में प्रतीकात्मक बन जाता है। इससे पहले रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह मेरीग्नैक पहुंचने के बाद दसॉ एविएशन की फैक्ट्री में पहुंचे।

आपको बता दें ये खास कार्यक्रम भारतीय वायुसेना के स्थापना दिवस और दशहरे के दिन हो रहा है। इस मौके पर पारंपरिक ‘शस्त्र पूजा’ के लिए एयरबेस पर प्रबंध किया गया है। शस्त्र पूजा दशहरा का हिस्सा है। शस्त्र पूजा के बाद सिंह इस विमान के दो सीट वाले प्रशिक्षु संस्करण में उड़ान भरेंगे।

Saturday, August 17, 2019

दुनिया का सबसे अमीर शख्स ये था, अंबानी की दौलत से ज्यादा सोना एक दिन में करता था दान !


ये था दुनिया का सबसे अमीर शख्स, अंबानी की दौलत से ज्यादा सोना एक दिन में करता था दान !
Third party image reference
TOC NEWS @ www.tocnews.org
खबरों और जिले, तहसील की एजेंसी के लिये सम्पर्क करें : 98932 21036

दुनिया के सबसे अमीर राजा के बारे में आज हम आपको अवगत करवाएंगे, जिसके उपहारों ने एक देश की अर्थव्यवस्था नष्ट कर दी थी। लेकिन उस शासक का खुद का देश अब आर्थिक संकट से लड़ रहा है। वर्तमान में दुनिया के सबसे अमीर व्यक्ति जेफ बेजोस की संपत्ति 9028 अरब रुपये से भी ज्यादा है, लेकिन वह इस राजा के आसपास भी नहीं है। हम बात आकर रहे है 14वीं सदी में माली देश के राजा रहे मनसा मूसा की। मनसा मूसा इतिहास के सबसे दानी शासकोंमें से एक थे। वह जहां जाते, वहां आम लोगों को इतना दान करते थे कि उस देश की अर्थव्यवस्था डगमगाने लगती थी।

Third party image reference
मनसा मूसा के राज्य में सोने और अन्य सामानों का आयात निर्यात करने वाले मुख्य व्यापारिक केंद्र थे, इस व्यापार से उन्हें काफी लाभ होता था , उस वक्त में इस राजा के पास पूरी दुनिया के सोने का लगभग आधा हिस्सा था। एक बार मूसा ने सहारा रेगिस्तान और मिस्र से होते हुए मक्का में हज यात्रा पर जाने का निर्णय लिया। माली से हज के लिए निकलते समय उनके कारवां में 60,000 से अधिक लोग, हाथी, घोड़े, ऊंट व अन्य कई प्रकार के जानवर और भारी मात्रा में साजो-सामान समलित था। यात्रा के समय उन्होंने काहिरा में अपने लाव-लश्कर के साथ तीन माह का प्रवास किया था।

Third party image reference
इस बीच उन्होंने वहां के लोगों को उपहार में इतना सोना दे दिया कि मिस्र की अर्थव्यवस्था ही ख़त्म हो गई थी। मूसा के सोने के उपहारों के कारण पूरे 10 वर्ष तक मिस्र में सोने की कीमतें गिरी रही। तीर्थ यात्रा के चलते मूसा ने इतने स्वर्ण उपहार बांटे कि पूरे मध्य पूर्व (मिडिल ईस्ट) क्षेत्र को लगभग 100 अरब रुपये से ज्यादा का आर्थिक नुकसान झेलना पड़ा था। जब वह हज यात्रा से वापसी कर रहे थे तो मिस्र से होकर गुजरे और देश की अर्थव्यवस्था को मजबूत करने के लिए उन्होंने सोने को प्रचलन से बाहर करने का यत्न किया। इसके लिए उन्होंने सोने को ब्याज पर वापस लेना शुरू कर दिया था।TOC NEWS @ www.tocnews.org
खबरों और जिले, तहसील की एजेंसी के लिये सम्पर्क करें : 98932 21036
दुनिया के सबसे अमीर राजा के बारे में आज हम आपको अवगत करवाएंगे, जिसके उपहारों ने एक देश की अर्थव्यवस्था नष्ट कर दी थी। लेकिन उस शासक का खुद का देश अब आर्थिक संकट से लड़ रहा है। वर्तमान में दुनिया के सबसे अमीर व्यक्ति जेफ बेजोस की संपत्ति 9028 अरब रुपये से भी ज्यादा है, लेकिन वह इस राजा के आसपास भी नहीं है।
हम बात आकर रहे है 14वीं सदी में माली देश के राजा रहे मनसा मूसा की। मनसा मूसा इतिहास के सबसे दानी शासकोंमें से एक थे। वह जहां जाते, वहां आम लोगों को इतना दान करते थे कि उस देश की अर्थव्यवस्था डगमगाने लगती थी।
 
 
Third party image reference
मनसा मूसा के राज्य में सोने और अन्य सामानों का आयात निर्यात करने वाले मुख्य व्यापारिक केंद्र थे, इस व्यापार से उन्हें काफी लाभ होता था , उस वक्त में इस राजा के पास पूरी दुनिया के सोने का लगभग आधा हिस्सा था। एक बार मूसा ने सहारा रेगिस्तान और मिस्र से होते हुए मक्का में हज यात्रा पर जाने का निर्णय लिया।
माली से हज के लिए निकलते समय उनके कारवां में 60,000 से अधिक लोग, हाथी, घोड़े, ऊंट व अन्य कई प्रकार के जानवर और भारी मात्रा में साजो-सामान समलित था। यात्रा के समय उन्होंने काहिरा में अपने लाव-लश्कर के साथ तीन माह का प्रवास किया था।
 
 
Third party image reference
इस बीच उन्होंने वहां के लोगों को उपहार में इतना सोना दे दिया कि मिस्र की अर्थव्यवस्था ही ख़त्म हो गई थी। मूसा के सोने के उपहारों के कारण पूरे 10 वर्ष तक मिस्र में सोने की कीमतें गिरी रही। तीर्थ यात्रा के चलते मूसा ने इतने स्वर्ण उपहार बांटे कि पूरे मध्य पूर्व (मिडिल ईस्ट) क्षेत्र को लगभग 100 अरब रुपये से ज्यादा का आर्थिक नुकसान झेलना पड़ा था।
जब वह हज यात्रा से वापसी कर रहे थे तो मिस्र से होकर गुजरे और देश की अर्थव्यवस्था को मजबूत करने के लिए उन्होंने सोने को प्रचलन से बाहर करने का यत्न किया। इसके लिए उन्होंने सोने को ब्याज पर वापस लेना शुरू कर दिया था।

Thursday, August 15, 2019

स्वतंत्रता दिवस पर PAK ने तोड़ा सीजफायर, भारतीय सेना ने दिया मुंहतोड़ जवाब, मारे गए 3 पाकिस्तानी सैनिक

TOC NEWS @ www.tocnews.org
खबरों और जिले, तहसील की एजेंसी के लिये सम्पर्क करें : 98932 21036
जम्मू । जम्मू कश्मीर से अनुच्छेद 370 की हटाए जाने के बाद पाकिस्तान आतंकियों की घुसपैठ भारतीय सीमा में कराने के लिए जुटा है। स्वतंत्रता दिवस के मौके पर जम्मू-कश्मीर के उरी और राजौरी सेक्टर में पाकिस्तान ने युद्ध विराम का उल्लंघन किया है। इस दौरार जवाबी कार्रवाई में भारतीय सेना ने पाकिस्तान को मुंहतोड़ जवाब दिया है। सूत्रों की माने तो इस जवाबी कार्रवाई में पाकिस्तान के तीन सैनिक मारे गए हैं।
इससे पहले पाकिस्तान की ओर से पांच भारतीय सैनिकों को एलओसी पर युद्ध विराम के दौरान मारे जाने का दावा किया गया था, जिसका भारतीय सेना ने खंडन किया है। बता दें कि, जम्मू कश्मीर के उरी सेक्टर में बुधवार को भारतीय सेना ने पाकिस्तान सेना द्वारा समार्थित आतंकवादियों की घुसपैठ की एक बड़ी कोशिश को नाकाम कर दिया था।
वहीं, स्वतंत्रता दिवस के मौके पर पाकिस्तानी सेना ने पुंछ जिले के कृष्णा घाटी सेक्टर में सुबह 7 बजे फायरिंग और गोलाबारी शुरू की। भारत ने इसका मुंहतोड़ जवाब दिया, जिसमें पाकिस्तानी सेना को काफी नुकसान पहुंचा है और उसके कई सैनिक मारे गए हैं। पाकिस्तान की तरफ से सुबह 7 बजे से शाम साढ़े 5 बजे तक रुक-रुककर फायरिंग होती रही। पाकिस्तान ने अपने 3 सैनिकों के मारे जाने की बात कबूल की है।

पाकिस्तान के इस नापाक प्लान को सेना ने किया ध्वस्त, उड़ी सेक्टर में घुसपैठ नाकाम

पाकिस्तान के इस नापाक प्लान को सेना ने किया ध्वस्त, उड़ी सेक्टर में घुसपैठ नाकाम

TOC NEWS @ www.tocnews.org
खबरों और जिले, तहसील की एजेंसी के लिये सम्पर्क करें : 98932 21036
स्वतंत्रता दिवस पर कश्मीर में अशांति फैलाने के मकसद से पाकिस्तान आतंकियों की घुसपैठ भारतीय सीमा में कराने के लिए जुटा हुआ है। जम्मू-कश्मीर के उड़ी सेक्टर में भारतीय सेना ने पाकिस्तानी सेना द्वारा समर्थित आतंकवादियों की घुसपैठ की एक बड़ी कोशिश को नाकाम कर दिया। पाकिस्तानी सेना द्वारा घुसपैठ की कोशिश के लिए पाक सेना की चौकियों से आतंकियों को भारी कवर फायर दिया जा रहा था। 
सैन्य सूत्रों की मानें तो पाकिस्तानी सेना लगातार कश्मीर में हिंसा फैलाने के लिए पाक आतंकियों को घुसपैठ कराने की कोशिश में जुटी हुई है। पाकिस्तान की इस नापाक हरकत की जानकारी पहले से ही भारतीय सेना के पास मौजूद है। ऐसे में सीमा पर सेना पूरी तरह से अलर्ट मोड पर है। लगातार पाक द्वारा की जा रही घुसपैठ की कोशिशों को भारतीय सेना के वीर जवान नाकाम कर रहे हैं।

उधर कई दिनों से आरएस पुरा सेक्टर की अंतरराष्ट्रीय सीमा पर प्रशासन की ओर से कड़ी चौकसी की व्यवस्था की गई है। पाकिस्तानी क्षेत्र में चल रही गतिविधियों पर पैनी नजर रखी जा रही है। सीमा पर अभी तक सीमा सुरक्षाबलों की अतिरिक्त तैनाती नहीं की गई। रुटीन के मुताबिक मौजूद जवान पाकिस्तान क्षेत्र में पैनी नजर रखे हुए हैं। रात के समय स्थानीय पुलिस के साथ ग्रामीण सुरक्षा समितियों के जवान भी रातभर गश्त कर रहे हैं। सीमावर्ती क्षेत्र से जम्मू और आरएस पुरा जाने वाले वाहनों की जांच पड़ताल कर भेजा जा रहा ताकि कोई अप्रिय घटना न घटे।
 

Friday, August 9, 2019

अनुच्छेद 370 खत्म होते ही ब्रिटेन से आया ये बड़ा बयान, मोदी सरकार के लिए बढ़ी मुश्किलें


TOC NEWS @ www.tocnews.org
खबरों और जिले, तहसील की एजेंसी के लिये सम्पर्क करें : 98932 21036
पीएम नरेंद्र मोदी सरकार ने जम्मू कश्मीर से अनुच्छेद 370 और 35A खत्म तो कर दिया लेकिन अब एक नयी मुसीबत उनके सामने खड़ी हो गयी है। ब्रिटेन ने मोदी सरकार के फैसले पर जो प्रतिक्रिया दी है उससे मोदी सरकार की मुश्किलें बढ़ सकती हैं।
आपको बता दें कि पहले भी सरकार के इस फैसले का उमर अब्दुल्ला, महबूबा मुफ्ती और फारूक अब्दुल्ला जैसे दिग्गज नेताओं ने विरोध किया था। पाकिस्तान और वहाँ के प्रधानमंत्री इमरान खान भारतीय जनता पार्टी सरकार के इस फैसले से हैरान रह गए। एलओसी पर तनाव के चलते मोदी सरकार ने सुरक्षा बढ़ा दी है।

जम्मू कश्मीर को दो भागों में बाँटा गया

मोदी सरकार ने दमदार फैसला लेते हुए जम्मू कश्मीर और लद्दाख को दो भागों में बांटते हुए दोनों को केंद्रशासित प्रदेश घोषित कर दिया है। जिसमें से जम्मू कश्मीर विधानसभा के साथ और लद्दाख बिना विधानसभा के ही केन्द्रशासित प्रदेश होगा। इस बीच एक बुरी खबर भी आई है। देश की लोकप्रिय नेता और पूर्व केंद्रीय विदेश मंत्री सुषमा स्वराज के निधन से पूरा देश शोक में डूब गया है।

ब्रिटेन से आया ये बड़ा बयान

ब्रिटेन के सांसदों ने मोदी सरकार के फैसले पर गंभीर चिंता व्यक्त की है। विपक्षी लेबर पार्टी की सांसद और कश्मीर पर एपीपीजी की अध्यक्ष डेबी अब्राहम ने कहा,"अनुच्छेद 370 को हटाने संबंधी भारत सरकार द्वारा लिया गया एकतरफा निर्णय जम्मू कश्मीर की जनता के विश्वास के साथ धोखा है। इससे क्षेत्र में तनाव बढ़ सकता है। साथ ही यह फैसला अंतरराष्ट्रीय कानून का भी उल्लंघन करता है।"

Monday, July 29, 2019

पुरुषों से थक चुकी मॉडल एलिजाबेथ अब करेगी इस कुत्ते से शादी, 220 लोगों को कर चुकीं डेट

पुरुषों से थक चुकी मॉडल एलिजाबेथ अब करेगी इस कुत्ते से शादी, 220 लोगों को कर चुकीं डेट

Model elizabeth

ब्रिटेन की एक मॉडल कुत्ते के साथ शादी रचाने जा रही हैं। इस अजब- गजब शादी के लिए चर्च के पादरी को मनाने की बात की जा रही हैं। ब्रिटेन के बर्क्स की निवासी एलिजाबेथ होड एक मॉडल रह चुकी हैं। उन्होंने ही अपने 6 साल के गोल्डेन रिट्रीवर कुत्ते लोगन से शादी करने का फैसला किया है। उन्हें उम्मीद है इस शादी के लिए वह चर्च के फादर को जरूर मना लेंगी। लेकिन सवाल यह है कि एलिजाबेथ ने एक कुत्ते के संग शादी रचाने का फैसला क्यों किया है।
Third party image reference
सुनने में अजीब जरूर लग रहा है लेकिन हाल ही में ये बात सामने आई है कि मॉडल रह चुकी एक महिला ने अपने कुत्ते से 'शादी' करने का फैसला किया है. इस बारे में मॉडल का कहना है कि पुरुषों के साथ डेट करने का अनुभव अच्छा नहीं था और इसी के बाद उन्होंने कुत्ते से शादी करने की ठानी है.
Third party image reference
जानकर हैरानी होगी कि मॉडल ने यह फैसला 220 पुरुषों के साथ डेट करने के बाद लिया है. अपनी लाइफ में ये पूरे 220 पुरुषों को डेट कर चुकी है और इसका अनुभव भी काफी खराब रहा जिसके कारण उन्होंने कुत्ते से शादी का फैसला किया.
Third party image reference
वहीं एलिजाबेथ होड को उम्मीद है कि वह एक चर्च के पादरी को अपने 6 साल के गोल्डेन रिट्रीवर कुत्ते लोगन से शादी कराने के लिए मना लेगी. जानकारी के अनुसार ब्रिटेन के बर्क्स की रहने वाली एलिजाबेथ की इससे पहले दो बार एन्गेजमेंट हो चुकी है. लेकिन शादी नहीं हुई. इस बारे में उनका कहना है कि वो पुरुषों से थक चुकी हैं. उन्होंने कहा- मैं बीते 8 सालों में 6 डेटिंग साइट के जरिए 220 पुरुषों के साथ डेट पर गई. लेकिन ये अच्छा नहीं रहा.' बता दें कि, ब्रिटेन के बर्क्स में जीवन बिताने वाली एलिजाबेथ की इससे पहले दो बार सगाई हो चुकी है। किन्तु विवाह नहीं हो पाया। इसके सम्बन्ध में उनका कहना है कि वो पुरुषों से थक चुकी हैं।.
Third party image reference
इसके अलावा अजीब बात ये है एलिजाबेथ ने कुत्ते से शादी के लिए प्लानिंग भी कर ली है. एक रिपोर्ट के अनुसार, शादी के दौरान महिला वेडिंग रिंग पहनेगी, जबकि लोगन रिस्टबैंड पहनेगा. शादी के दौरान सिर्फ 20 लोगों को बुलाया जाएगा. इसके बाद एलिजाबेथ डॉग फ्रेंडली होटल में हनीमून के लिए जाएगी. इस बट से एलिज़ाबेथ काफी खुश भी है.

CCH ADD

CCH ADD
CCH ADD

Popular Posts

dhamaal Posts

जिला ब्यूरो प्रमुख / तहसील ब्यूरो प्रमुख / रिपोर्टरों की आवश्यकता है

जिला ब्यूरो प्रमुख / तहसील ब्यूरो प्रमुख / रिपोर्टरों की आवश्यकता है

ANI NEWS INDIA

‘‘ANI NEWS INDIA’’ सर्वश्रेष्ठ, निर्भीक, निष्पक्ष व खोजपूर्ण ‘‘न्यूज़ एण्ड व्यूज मिडिया ऑनलाइन नेटवर्क’’ हेतु को स्थानीय स्तर पर कर्मठ, ईमानदार एवं जुझारू कर्मचारियों की सम्पूर्ण मध्यप्रदेश एवं छत्तीसगढ़ के प्रत्येक जिले एवं तहसीलों में जिला ब्यूरो प्रमुख / तहसील ब्यूरो प्रमुख / ब्लाक / पंचायत स्तर पर क्षेत्रीय रिपोर्टरों / प्रतिनिधियों / संवाददाताओं की आवश्यकता है।

कार्य क्षेत्र :- जो अपने कार्य क्षेत्र में समाचार / विज्ञापन सम्बन्धी नेटवर्क का संचालन कर सके । आवेदक के आवासीय क्षेत्र के समीपस्थ स्थानीय नियुक्ति।
आवेदन आमन्त्रित :- सम्पूर्ण विवरण बायोडाटा, योग्यता प्रमाण पत्र, पासपोर्ट आकार के स्मार्ट नवीनतम 2 फोटोग्राफ सहित अधिकतम अन्तिम तिथि 30 मई 2019 शाम 5 बजे तक स्वंय / डाक / कोरियर द्वारा आवेदन करें।
नियुक्ति :- सामान्य कार्य परीक्षण, सीधे प्रवेश ( प्रथम आये प्रथम पाये )

पारिश्रमिक :- पारिश्रमिक क्षेत्रिय स्तरीय योग्यतानुसार। ( पांच अंकों मे + )

कार्य :- उम्मीदवार को समाचार तैयार करना आना चाहिए प्रतिदिन न्यूज़ कवरेज अनिवार्य / विज्ञापन (व्यापार) मे रूचि होना अनिवार्य है.
आवश्यक सामग्री :- संसथान तय नियमों के अनुसार आवश्यक सामग्री देगा, परिचय पत्र, पीआरओ लेटर, व्यूज हेतु माइक एवं माइक आईडी दी जाएगी।
प्रशिक्षण :- चयनित उम्मीदवार को एक दिवसीय प्रशिक्षण भोपाल स्थानीय कार्यालय मे दिया जायेगा, प्रशिक्षण के उपरांत ही तय कार्यक्षेत्र की जबाबदारी दी जावेगी।
पता :- ‘‘ANI NEWS INDIA’’
‘‘न्यूज़ एण्ड व्यूज मिडिया नेटवर्क’’
23/टी-7, गोयल निकेत अपार्टमेंट, प्रेस काम्पलेक्स,
नीयर दैनिक भास्कर प्रेस, जोन-1, एम. पी. नगर, भोपाल (म.प्र.)
मोबाइल : 098932 21036


क्र. पद का नाम योग्यता
1. जिला ब्यूरो प्रमुख स्नातक
2. तहसील ब्यूरो प्रमुख / ब्लाक / हायर सेकेंडरी (12 वीं )
3. क्षेत्रीय रिपोर्टरों / प्रतिनिधियों हायर सेकेंडरी (12 वीं )
4. क्राइम रिपोर्टरों हायर सेकेंडरी (12 वीं )
5. ग्रामीण संवाददाता हाई स्कूल (10 वीं )

SUPER HIT POSTS

TIOC

''टाइम्स ऑफ क्राइम''

''टाइम्स ऑफ क्राइम''


23/टी -7, गोयल निकेत अपार्टमेंट, जोन-1,

प्रेस कॉम्पलेक्स, एम.पी. नगर, भोपाल (म.प्र.) 462011

Mobile No

98932 21036, 8989655519

किसी भी प्रकार की सूचना, जानकारी अपराधिक घटना एवं विज्ञापन, समाचार, एजेंसी और समाचार-पत्र प्राप्ति के लिए हमारे क्षेत्रिय संवाददाताओं से सम्पर्क करें।

http://tocnewsindia.blogspot.com




यदि आपको किसी विभाग में हुए भ्रष्टाचार या फिर मीडिया जगत में खबरों को लेकर हुई सौदेबाजी की खबर है तो हमें जानकारी मेल करें. हम उसे वेबसाइट पर प्रमुखता से स्थान देंगे. किसी भी तरह की जानकारी देने वाले का नाम गोपनीय रखा जायेगा.
हमारा mob no 09893221036, 8989655519 & हमारा मेल है E-mail: timesofcrime@gmail.com, toc_news@yahoo.co.in, toc_news@rediffmail.com

''टाइम्स ऑफ क्राइम''

23/टी -7, गोयल निकेत अपार्टमेंट, जोन-1, प्रेस कॉम्पलेक्स, एम.पी. नगर, भोपाल (म.प्र.) 462011
फोन नं. - 98932 21036, 8989655519

किसी भी प्रकार की सूचना, जानकारी अपराधिक घटना एवं विज्ञापन, समाचार, एजेंसी और समाचार-पत्र प्राप्ति के लिए हमारे क्षेत्रिय संवाददाताओं से सम्पर्क करें।





Followers

toc news