Monday, February 25, 2013

फर्जी पत्रकार 420 के आरोप में रिमांड पर


Click to Downloadखंडवा [आशीष मिश्रा ] कोतवाली पुलिस से प्राप्त जानकारी के अनुसार एक व्यक्ति ने जाति का फर्जी प्रमाण पत्र के आधार पर शासकीय योजनाओं का लाभ प्राप्त कर बैंक से हजारों रूपए का ऋण ले लिया। उक्त मामले की शिकायत एक युवक ने पुलिस विभाग के उच्च अधिकारियो से की गई। पुलिस अधीक्षक श्री मनोज शर्मा ने मामले की जांच के निर्देश दिये। जांच पूर्ण होने पर तथा जांच में अमित पिता माखनलाल राठौर के विरूद्घ शिकायत सही पाये जाने पर पुलिस अधीक्षक के निर्देश पर कोतवाली थाने में अमित पिता माखनलाल राठौर निवासी सन्मत्ति नगर,इंदौर रोड़ पर भादंवि धारा 420,467,468 एवं 471 के तहत् अपराध पंजीबद्घ किया। आरोपी अमित राठौर को कोर्ट पेश किया गया जहां से उसे 27 तारीक तक पुलिस रिमांड पर भेज दिया गया।

यह था मामला
जानकारी के मुताबिक अमित राठौर पिता माखनलाल राठौर निवासी खंडवा ने वर्ष 7 नवम्बर 2006 को जिला व्यापार एवं उद्योग केन्द्र खंडवा से प्रधानमंत्री रोजगार योजनांतर्गत भैंस पालन का ऋण प्राप्त किया गया। यहां पर आवेदक अमित राठौर ने पिछड़ा वर्ग जाति के प्रमाण पत्र संलग्न कर लगभग 1 लाख रूपए का ऋण यूनियन बैंक से हासिल किया। वर्ष 2008 में उसने जिला अंत्यव्यवसायी सहकारी विकास समिति मार्या दित खंडवा से 30 हजार रूपए का ऋण प्राप्त किया। इस बार आवेदक ने शासकीय योजना का लाभ प्राप्त करने के लिए फर्जी जाति प्रमाण पत्र लगाते हुए खुद को हरिजन (बलाही) बताते हुए अनुसूचिज जाति का लाभ प्राप्त किया। यही नहीं आवेदक ने खुद को बलाही बताकर जिला अंत्यवव्यवसायी के कार्यपालन अधिकारी को भी धोखें में रखा तथा समिति में पंजीयन कराया। इसमें उसका पंजीयन क्रमांक 26/53 दिनांक 07/07/2008 था। इस तरह से धोखाधड़ी कर आवेदक अमित राठौर ने दो अलग योजनाओं से दो बार लाभ अर्जित किया।

इनका कहना है-

आरोपी को कोर्ट में पेश किया गया। कोर्ट से उसे 27 तारीक तक रिमांड पर भेज दिया गया है।
दिलीपसिंह तोमर
सीएसपी.खंडवा
sabhar - teznews

कितना दूर कितने पास


डॉ. शशि तिवारी
toc news internet channal

भ्रष्टाचार का संबंध अमीरी या गरीबी से न हो मनःस्थिति और कुछ हद तक परिस्थिति जन्य होता है। मानव की इच्छा का घोड़ा इच्छा की अंतहीन दौड़ में अंतिम सांस तक दौड़ाता ही रहता है। इच्छा के इस खेल में अच्छे-बुरे कार्यों के चुनाव की समझ भी जाती रहती है। इस अवस्था में मानव को अपने कुकर्म भी यश-कीर्ति की भाँति लगने लगते हैं। संस्कारों की बात करने वाला कब संस्कारहीन हो जाता है, भेद जाता रहता है। असत को ही सत मान भयंकर प्रतिकर्म में जुटा रहता है। भ्रष्टाचार की सत्ता को क्या रिया, क्या नीति नियन्ता पूर्णतः अंगीकार कर चुके है। इसके बिना अस्तित्व की कल्पना करना ही बेमानी है। आज सभी राजनीतिक पार्टियां भ्रष्टाचार एवं एक दूसरे पर कीचड़ उछालने में इतनी मशगूल है कि जनता के मुद्दे तो कांसो दूर पीछे छूट जाते हैं।
कहते है छोटी-छोटी नदियां ही मिलकर बड़ी नदी को जीवन देती है। यदि इनका योगदान न हो तो बड़ी नदी के अस्तित्व पर ही खतरा खडा हो जायेगा। भ्रष्टाचार के मामले में भी प्रकृति का हो ये सिद्धांत लागू होता है जिसमें चपरासी से लेकर अधिकारी तक, बड़ी-बडी भ्रष्टाचार की गंगा की तथा कथित नेताओं एवं मंत्रियों के पोषक बन फल फूल रही है। ऐसा भी नहीं है कि उन्हें इसका इल्म नहीं है लेकिन वो भी क्या करें? वो भी उतने ही असाह है। वो भी जानते है उन्हें भी भ्रष्टाचार के समुद्र में जा विलीन जो होना हैं।

भ्रष्टाचार में जो समाजवाद, समरसतावाद, जाति-धर्म निरपेक्षता है वह कही और लाख प्रयासों के बाद भी दूर-दूर दिखाई नहीं देती। मसलन क्या अमीर क्या गरीब, क्या शरीफ, क्या चोर, क्या जाति क्या धर्म, क्या ऊंच, क्या नीच, क्या नेता, क्या अफसर, क्या अफसर, क्या नौकर, चहुं ओर सभी भ्रष्टाचार के रंग में एक ही है। मंत्रियों पर तो आए दिन भ्रष्टाचार के आरोप लगते ही रहते है। नेता बिरादरी ही आरोप लगाने के लिए पर्याप्त हैं। लेकिन नौकरशाहों पर विगत् एक दशक से भ्रष्टाचार से कमाई काली कमाई बडे पैमाने पर उजागर हुई है फिर चाहे वह आइ.ए. एस. जोशी दम्पत्ति हो, जेल अधिकारी पुरूषोत्तम सोमकुंवर हो, उमेश गांधी हो स्वास्थ्य विभाग के ए.एम. मित्तल हो महकमे के एस.के.पलाश हो, अ.ज.जज. विकास के देवरिस्ट परमार हो, चाहे परिवहन विभाग का अदना सा कर्मचारी रमन घोलपुए हो ऐसी लोगों की बहुत लम्बी सूची हैं।

ये तो भारत की जनता ही है जो नेताओं के कुचक्र में फंस भारतीय युवा कभी जाति, कभी धर्म, कभी क्षेत्र, कभी झगड़ा-पिछडा, आरक्षण की राजनीति में फंस वर्षों से दुही जा रही है ओर मतदान के पर्व पर भावनाओं की बाढ़ में वह सब कुछ अपना लुटाती आई है और अपने नसीब में आए महंगाई, भ्रष्टाचार, बेरोजगारी में जीने को ही अपना-अपना नसीब मान कुड़-कुड़ कर, कोस-कोस कर जीवन जीने को ही नियति मान लिया है।

यहां कुछ मूलभूत यक्ष प्रश्न उठ खड़े होते हैं मसलन जब राजा को मालूम है कि कौन चोर है फिर सजा में देरी क्यों? जब नियम कठोर है तो राजनीतिक ढिलाई क्यों? जब नियत स्वच्छ है तो स्वयं क्यों भ्रष्टाचार की कीचड़ से सने? क्यों ढीढ़ बने बैठे हैं? किसने रोका है सक्षम लोगों को, दूध का दूध पानी का पानी करने के लिए, रिया भी चाहती है, राजा भी चाहता है दोषियों को कठोर सजा फिर कौन दें?

 इनके बीच में अकस्मात शक्ति कौन है? कही ये भ्रष्टाचार के समुद्र का लोभ, लालच, निजी महत्वाकांक्षा से निजि अस्तित्व का निजि स्वार्थ तो नहीं? ऐसा लगता है कि भ्रष्टाचार का समुद्र जनता, बुद्धिजीवियों, एक कानून विदों की विनय-अनय से नेक नियत को रास्ता देने के लिए तैयार नहीं है। क्या इसके कोई लिए फिर कार्य राम को अवतार लेना पड़ेगा। क्या फिर राम को भ्रष्टाचार के समुद्र पर नेक नियत को रास्ता देने के लिए धनुष उठाना पड़ेगा।

शशिफीचर डॉट ओरजी लेखिका ‘‘सूचना मंत्र’’ पत्रिका की संपादक है 
मो. 09425677352

क्या खूब लगती हो... ..


toc news internet channal

क्या खूब लगती हो... ... महिलाओं की खूबसूरती को दोगुना करने के लिए बेहतरीन टिप्स दें
जिससे आपके वो कहेंगे कि 'क्या खूब लगती हो.....



dhamaal Posts

जिला ब्यूरो प्रमुख / तहसील ब्यूरो प्रमुख / रिपोर्टरों की आवश्यकता है

जिला ब्यूरो प्रमुख / तहसील ब्यूरो प्रमुख / रिपोर्टरों की आवश्यकता है

ANI NEWS INDIA

‘‘ANI NEWS INDIA’’ सर्वश्रेष्ठ, निर्भीक, निष्पक्ष व खोजपूर्ण ‘‘न्यूज़ एण्ड व्यूज मिडिया ऑनलाइन नेटवर्क’’ हेतु को स्थानीय स्तर पर कर्मठ, ईमानदार एवं जुझारू कर्मचारियों की सम्पूर्ण मध्यप्रदेश एवं छत्तीसगढ़ के प्रत्येक जिले एवं तहसीलों में जिला ब्यूरो प्रमुख / तहसील ब्यूरो प्रमुख / ब्लाक / पंचायत स्तर पर क्षेत्रीय रिपोर्टरों / प्रतिनिधियों / संवाददाताओं की आवश्यकता है।

कार्य क्षेत्र :- जो अपने कार्य क्षेत्र में समाचार / विज्ञापन सम्बन्धी नेटवर्क का संचालन कर सके । आवेदक के आवासीय क्षेत्र के समीपस्थ स्थानीय नियुक्ति।
आवेदन आमन्त्रित :- सम्पूर्ण विवरण बायोडाटा, योग्यता प्रमाण पत्र, पासपोर्ट आकार के स्मार्ट नवीनतम 2 फोटोग्राफ सहित अधिकतम अन्तिम तिथि 30 मई 2019 शाम 5 बजे तक स्वंय / डाक / कोरियर द्वारा आवेदन करें।
नियुक्ति :- सामान्य कार्य परीक्षण, सीधे प्रवेश ( प्रथम आये प्रथम पाये )

पारिश्रमिक :- पारिश्रमिक क्षेत्रिय स्तरीय योग्यतानुसार। ( पांच अंकों मे + )

कार्य :- उम्मीदवार को समाचार तैयार करना आना चाहिए प्रतिदिन न्यूज़ कवरेज अनिवार्य / विज्ञापन (व्यापार) मे रूचि होना अनिवार्य है.
आवश्यक सामग्री :- संसथान तय नियमों के अनुसार आवश्यक सामग्री देगा, परिचय पत्र, पीआरओ लेटर, व्यूज हेतु माइक एवं माइक आईडी दी जाएगी।
प्रशिक्षण :- चयनित उम्मीदवार को एक दिवसीय प्रशिक्षण भोपाल स्थानीय कार्यालय मे दिया जायेगा, प्रशिक्षण के उपरांत ही तय कार्यक्षेत्र की जबाबदारी दी जावेगी।
पता :- ‘‘ANI NEWS INDIA’’
‘‘न्यूज़ एण्ड व्यूज मिडिया नेटवर्क’’
23/टी-7, गोयल निकेत अपार्टमेंट, प्रेस काम्पलेक्स,
नीयर दैनिक भास्कर प्रेस, जोन-1, एम. पी. नगर, भोपाल (म.प्र.)
मोबाइल : 098932 21036


क्र. पद का नाम योग्यता
1. जिला ब्यूरो प्रमुख स्नातक
2. तहसील ब्यूरो प्रमुख / ब्लाक / हायर सेकेंडरी (12 वीं )
3. क्षेत्रीय रिपोर्टरों / प्रतिनिधियों हायर सेकेंडरी (12 वीं )
4. क्राइम रिपोर्टरों हायर सेकेंडरी (12 वीं )
5. ग्रामीण संवाददाता हाई स्कूल (10 वीं )

SUPER HIT POSTS

TIOC

''टाइम्स ऑफ क्राइम''

''टाइम्स ऑफ क्राइम''


23/टी -7, गोयल निकेत अपार्टमेंट, जोन-1,

प्रेस कॉम्पलेक्स, एम.पी. नगर, भोपाल (म.प्र.) 462011

Mobile No

98932 21036, 8989655519

किसी भी प्रकार की सूचना, जानकारी अपराधिक घटना एवं विज्ञापन, समाचार, एजेंसी और समाचार-पत्र प्राप्ति के लिए हमारे क्षेत्रिय संवाददाताओं से सम्पर्क करें।

http://tocnewsindia.blogspot.com




यदि आपको किसी विभाग में हुए भ्रष्टाचार या फिर मीडिया जगत में खबरों को लेकर हुई सौदेबाजी की खबर है तो हमें जानकारी मेल करें. हम उसे वेबसाइट पर प्रमुखता से स्थान देंगे. किसी भी तरह की जानकारी देने वाले का नाम गोपनीय रखा जायेगा.
हमारा mob no 09893221036, 8989655519 & हमारा मेल है E-mail: timesofcrime@gmail.com, toc_news@yahoo.co.in, toc_news@rediffmail.com

''टाइम्स ऑफ क्राइम''

23/टी -7, गोयल निकेत अपार्टमेंट, जोन-1, प्रेस कॉम्पलेक्स, एम.पी. नगर, भोपाल (म.प्र.) 462011
फोन नं. - 98932 21036, 8989655519

किसी भी प्रकार की सूचना, जानकारी अपराधिक घटना एवं विज्ञापन, समाचार, एजेंसी और समाचार-पत्र प्राप्ति के लिए हमारे क्षेत्रिय संवाददाताओं से सम्पर्क करें।





Followers

toc news