Monday, October 31, 2011

जेल में मधु कोड़ा की पिटाई, हाथ टूटा

जेल में मधु कोड़ा की पिटाई, हाथ टूटा


रांची।। जेल में बेहतर खाने की मांग को लेकर धरने पर बैठे झारखंड के पूर्व मुख्यमंत्री मधु कोड़ा के साथ रसोइयों और गार्डों ने मारपीट की, जिसमें उनके हाथ की हड्डी टूट गई। उन्हें रांची के रिम्स अस्पताल में भर्ती कराया गया है।

न्यूज चैनलों के मुताबिक, मधु कोड़ा और उनके साथ आय से अधिक संपत्ति के मामले में बंद दो पूर्व मंत्रियों के साथ सुरक्षाकर्मियों ने मारपीट की। दो पूर्व मंत्रियों को तो ज्यादा चोट नहीं आई लेकिन इस मारपीट में मधु कोड़ा का हाथ टूट गया है।

मधु कोड़ा जेल में लगातार अच्छे खाने की मांग को लेकर अपना विरोध जताते रहे हैं। वह अपने साथियों के साथ पिछले कुछ दिनों से जेल में ही धरने पर बैठे थे। सोमवार को इस मुद्दे पर उनका जेल कर्मचारियों के साथ विवाद हो गया। इसके बाद मारपीट शुरू हो गई।

आईजी के पीए की आत्महत्या: सीबीआई कर्मी से पूछताछ


toc news internet channal
 
भोपाल। होशंगाबाद रेंज आईजी के पीए की आत्महत्या के मामले में आरोपी बनाए गए दोनों वकील घर पर ताला लगाकर फरार हो गए हैं। वे अग्रिम जमानत कराने की कोशिश में हैं। इस मामले में सुसाइड नोट के आधार पर संदेही बनाए गए सीबीआई के एक आरक्षक से पुलिस ने पूछताछ की है। एक बैंक मैनेजर द्वारा मृतक के जरिए सीबीआई के नाम पर दिए गए 32 लाख रुपये ही मौत का कारण बने थे।
तीन अक्टूबर को बागसेवनिया में रहने वाले अरुण तिवारी ने जहर खाकर आत्महत्या कर ली थी। उन्होंने सुसाइड नोट में लिखा था कि वकील केटी पंचौली, विनोद पांडे और सीबीआई के मनोज को उसने 32 लाख रुपये दिए थे, जो वापस नहीं मिल रहे थे। ये रुपये सेंट्रल बैंक ऑफ इंडिया के निलंबित ब्रांच मैनेजर बसंत पावसे को सीबीआई से बचाने के लिए दिए गए थे। पावसे के खिलाफ सीबीआई ने वर्ष 2010 में भ्रष्टाचार और धोखाधड़ी का मामला दर्ज किया था। उसके खिलाफ तीन मामले सीबीआई में दर्ज हैं। एक फर्जी कागजों पर ऋण देने और गबन का है। इसके बैंक के सीनियर मैनेजर केके चौरसिया और राजधानी के शालीमार कंस्ट्रक्शन और डेवलपर्स भी आरोपी हैं। उसके खिलाफ आय से अधिक संपत्ति का मामला भी दर्ज है।

पुलिस को पता चला कि पावसे ने अरुण तिवारी के जरिए सीबीआई का मामला रफा दफा कराने की कोशिश की थी। इसके लिए अरुण ने सीबीआई के किसी मनोज नामक व्यक्ति और दो वकीलों केटी पंचौली और विनोद पांडे को साढ़े 32 लाख रुपये दिलवाए थे। मामले रफा-दफा नहीं होने पर वह अरुण से ये रुपये मांग रहा था। अरुण ने जब वकीलों और मनोज से रुपये मांगे तो वे लगातार उससे बहाने बनाते रहे। इस बात को लेकर पावसे और दोनों वकील उस पर अलग-अलग दबाव बना रहे थे। 
 
इसी के चलते उसने आत्महत्या कर ली थी।
इस मामले में पुलिस ने दोनों वकीलों के खिलाफ आत्महत्या के लिए प्रेरित करने का प्रकरण दर्ज किया था। पुलिस ने सीबीआई के मनोज सिंह नामक आरक्षक से भी लंबी पूछताछ की है। हालांकि अफसर इस बारे में सीधे बोलने से बच रहे हैं। मनोज सिंह समेत, पावसे, तिवारी और दोनों वकीलों की कॉल डिटेल भी पुलिस ने निकलवाई है। वकील पंचौली ईदगाह हिल स्थित अपने घर पर ताला लगाकर फरार है, वहीं वकील विनोद पांडे के अयोध्या स्थित घर पर भी पुलिस को ताला मिला है। पांडे के पिता थानेदार हैं और बैतूल में पदस्थ हैं। बताया जाता है कि दोनों वकील अग्रिम जमानत के लिए कोशिश कर रहे हैं।

Sunday, October 30, 2011

पत्रकारों का उपहार डकार गया जनसम्‍पर्क मंत्री का पीआरओ

Written by अरशद अली खान
toc news internet channal

भोपाल। मध्यप्रदेश के जनसम्पर्क मंत्री लक्ष्मीकांत शर्मा सरकार और पत्रकारों के बीच तालमेल बैठाने का हर संभव प्रयास करते हैं। शायद इसीलिए वे हर साल दिवाली पर पत्रकारों को महंगे उपहार भेजते हैं, लेकिन उनका पीआरओ मंगलाप्रसाद मिश्रा मंत्री की मंशा के ठीक उलट सरकार और पत्रकारों के बीच दरार गहरी करने का कोई भी मौका हाथ से नहीं जाने देता है। इसका ताजा उदाहरण यह है कि इस दिवाली पर जनसम्पर्क मंत्री ने जो उपहार पत्रकारों के घरों पर भेजे थे वह अधिकतर पत्रकारों को मिले ही नहीं।

इस बात का खुलासा तब हुआ जब कुछ पत्रकारों ने मंत्री को फोन पर बधाई दी तो मंत्री ने उपहार के बारे में पूछ लिया, तो अमुक पत्रकार ने उपहार के बारे में अनभिज्ञता व्यक्त करते हुए कहा कि आपके द्वारा भेजा गया उपहार मेरे घर पहुंचा ही नहीं। क्योंकि बात उपहार की थी इसलिए वहीं खत्म हो गयी। मंत्री ने भी बात को तूल देने की बजाय खामोश रहना ठीक समझा। लेकिन पत्रकारों की आपसी बातचीत में यह बात सामने आई कि अधिकतर पत्रकारों को मंत्री द्वारा भेजा गया दिवाली का उपहार नहीं मिला है। यह जानकर कुछ पत्रकार बिफर पडे़ और पड़ताल शुरू कर दी। पता चला कि पिछले वर्षों की तुलना में इस बार का उपहार अधिक मंहगा था सो पीआरओ ने हाथ की सफाई दिखा दी। ऐसी भी चर्चा है कि मंत्री के पीआरओ ने कुछ उपहार बांटने के बाद बाकी के उपहार अपने नाते-रिश्तेदारों में बांट दिए। चपरासी से अधिकारी बने ऐसे व्यक्ति से और क्या आशा की जा सकती है।

अरशद अली खान

भोपाल

dhamaal Posts

जिला ब्यूरो प्रमुख / तहसील ब्यूरो प्रमुख / रिपोर्टरों की आवश्यकता है

जिला ब्यूरो प्रमुख / तहसील ब्यूरो प्रमुख / रिपोर्टरों की आवश्यकता है

ANI NEWS INDIA

‘‘ANI NEWS INDIA’’ सर्वश्रेष्ठ, निर्भीक, निष्पक्ष व खोजपूर्ण ‘‘न्यूज़ एण्ड व्यूज मिडिया ऑनलाइन नेटवर्क’’ हेतु को स्थानीय स्तर पर कर्मठ, ईमानदार एवं जुझारू कर्मचारियों की सम्पूर्ण मध्यप्रदेश एवं छत्तीसगढ़ के प्रत्येक जिले एवं तहसीलों में जिला ब्यूरो प्रमुख / तहसील ब्यूरो प्रमुख / ब्लाक / पंचायत स्तर पर क्षेत्रीय रिपोर्टरों / प्रतिनिधियों / संवाददाताओं की आवश्यकता है।

कार्य क्षेत्र :- जो अपने कार्य क्षेत्र में समाचार / विज्ञापन सम्बन्धी नेटवर्क का संचालन कर सके । आवेदक के आवासीय क्षेत्र के समीपस्थ स्थानीय नियुक्ति।
आवेदन आमन्त्रित :- सम्पूर्ण विवरण बायोडाटा, योग्यता प्रमाण पत्र, पासपोर्ट आकार के स्मार्ट नवीनतम 2 फोटोग्राफ सहित अधिकतम अन्तिम तिथि 30 मई 2019 शाम 5 बजे तक स्वंय / डाक / कोरियर द्वारा आवेदन करें।
नियुक्ति :- सामान्य कार्य परीक्षण, सीधे प्रवेश ( प्रथम आये प्रथम पाये )

पारिश्रमिक :- पारिश्रमिक क्षेत्रिय स्तरीय योग्यतानुसार। ( पांच अंकों मे + )

कार्य :- उम्मीदवार को समाचार तैयार करना आना चाहिए प्रतिदिन न्यूज़ कवरेज अनिवार्य / विज्ञापन (व्यापार) मे रूचि होना अनिवार्य है.
आवश्यक सामग्री :- संसथान तय नियमों के अनुसार आवश्यक सामग्री देगा, परिचय पत्र, पीआरओ लेटर, व्यूज हेतु माइक एवं माइक आईडी दी जाएगी।
प्रशिक्षण :- चयनित उम्मीदवार को एक दिवसीय प्रशिक्षण भोपाल स्थानीय कार्यालय मे दिया जायेगा, प्रशिक्षण के उपरांत ही तय कार्यक्षेत्र की जबाबदारी दी जावेगी।
पता :- ‘‘ANI NEWS INDIA’’
‘‘न्यूज़ एण्ड व्यूज मिडिया नेटवर्क’’
23/टी-7, गोयल निकेत अपार्टमेंट, प्रेस काम्पलेक्स,
नीयर दैनिक भास्कर प्रेस, जोन-1, एम. पी. नगर, भोपाल (म.प्र.)
मोबाइल : 098932 21036


क्र. पद का नाम योग्यता
1. जिला ब्यूरो प्रमुख स्नातक
2. तहसील ब्यूरो प्रमुख / ब्लाक / हायर सेकेंडरी (12 वीं )
3. क्षेत्रीय रिपोर्टरों / प्रतिनिधियों हायर सेकेंडरी (12 वीं )
4. क्राइम रिपोर्टरों हायर सेकेंडरी (12 वीं )
5. ग्रामीण संवाददाता हाई स्कूल (10 वीं )

SUPER HIT POSTS

TIOC

''टाइम्स ऑफ क्राइम''

''टाइम्स ऑफ क्राइम''


23/टी -7, गोयल निकेत अपार्टमेंट, जोन-1,

प्रेस कॉम्पलेक्स, एम.पी. नगर, भोपाल (म.प्र.) 462011

Mobile No

98932 21036, 8989655519

किसी भी प्रकार की सूचना, जानकारी अपराधिक घटना एवं विज्ञापन, समाचार, एजेंसी और समाचार-पत्र प्राप्ति के लिए हमारे क्षेत्रिय संवाददाताओं से सम्पर्क करें।

http://tocnewsindia.blogspot.com




यदि आपको किसी विभाग में हुए भ्रष्टाचार या फिर मीडिया जगत में खबरों को लेकर हुई सौदेबाजी की खबर है तो हमें जानकारी मेल करें. हम उसे वेबसाइट पर प्रमुखता से स्थान देंगे. किसी भी तरह की जानकारी देने वाले का नाम गोपनीय रखा जायेगा.
हमारा mob no 09893221036, 8989655519 & हमारा मेल है E-mail: timesofcrime@gmail.com, toc_news@yahoo.co.in, toc_news@rediffmail.com

''टाइम्स ऑफ क्राइम''

23/टी -7, गोयल निकेत अपार्टमेंट, जोन-1, प्रेस कॉम्पलेक्स, एम.पी. नगर, भोपाल (म.प्र.) 462011
फोन नं. - 98932 21036, 8989655519

किसी भी प्रकार की सूचना, जानकारी अपराधिक घटना एवं विज्ञापन, समाचार, एजेंसी और समाचार-पत्र प्राप्ति के लिए हमारे क्षेत्रिय संवाददाताओं से सम्पर्क करें।





Followers

toc news