Thursday, October 31, 2013

जिस दिन इंदिरा गांधी की हत्या हुई थी

By शेष नारायण सिंह 
toc news internet channel 

३१ अक्टूबर १९८४, नई दिल्ली. सुबह साढ़े नौ बजे के आस पास मित्र राम चन्द्र सिंह का फोन आया कि इंदिरा गांधी को उनके घर में ही किसी ने गोली मार दी है. इलाज के लिए आल इंडिया इंस्टीट्यूट आफ मेडिकल साइंसेज में ले जाई गयी हैं. उस वक्त हम सफदरजंग इन्क्लेव में रहते थे. बाहर निकल कर उसी पैजामे कुर्ते में सामने खड़े एक आटोरिक्शा पर बैठ गए. किराया दो रूपया होना चाहिए था लेकिन उसने पांच रूपये मांगे. हाँ कर दी और मेडिकल इंस्टीट्यूट पंहुच गए. उस वक्त वहां कोई भीड़ नहीं थी. इंदिरा गांधी के घर पर रहने वाले लोग ही रहे होंगें. कुछ पुलिस वाले, कुछ डाक्टर और कोई नहीं.

पता चला कि आपरेशन थियेटर में ले जाई गयी हैं. कर्मचारी संगठन के मिश्र जी नज़र आये. मैंने पूछा कि इंदिरा जी का कैसा हाल चाल है. उन्होंने बताया कि हाल चाल कैसा होगा. सैकड़ों गोलियाँ लगी हैं. शरीर छलनी है. मैंने पूछा बच तो जायेगीं? उन्होंने कहा कि यह सवाल मूर्खता भरा है. इंदिरा जी की बॉडी ही अस्पताल लाई गयी थी.

मैं इंदिरा गांधी का बहुत प्रशंसक कभी नहीं रहा लेकिन मुझे याद है कि मैं बहुत तकलीफ से घिर गया. लगा कि अब तूफ़ान आ सकता है. वहीं बैठ गया. बहुत देर बैठा रहा. नेताओं का आना जाना शुरू हो चुका था. अरुण नेहरू पूरे कंट्रोल में थे, कुछ देर बाद ऊपर जाकर देखा. अंदर कमरे में इंदिरा गांधी का मृत शरीर और बाहर उनकी सरकार के मंत्री खड़े बातचीत कर रहे थे. कुछ देर बाद पुलिस वालों ने फालतू लोगों को हटा दिया. लेकिन अभी किसी को बताया नहीं गया था कि इंदिरा गांधी की मृत्यु हो चुकी थी.

मैं बाहर आ गया. सड़क पर भीड़ इकट्ठा होने लगी थी. लेकिन चारों तरफ सन्नाटा था. लगा सबको मालूम था कि अंदर क्या हो गया था. पुलिस अधिकारी गौतम कौल नज़र आये. उनके चेहरे पर बहुत तकलीफ थी जो आम तौर पर पुलिस वालों के चेहरे पर नहीं होती, वे तो ड्यूटी कर रहे होते हैं. लेकिन गौतम की आँखे बहुत भारी थीं. वे इंदिरा जी के रिश्तेदार भी हैं. मुझे याद है उन्होंने किसी थानेदार को बुलाया और कहा कि एम्स और सफदरजंग अस्पताल के बीच वाली सड़क को खाली करवा लो. जो कारें खड़ी हैं, उनको क्रेन वगैरह से हटवा दो. अब तक भीड़ आना शुरू हो चुकी थी. पास में ही अर्जुन दास का दफ्तर था.

उसके लोग बड़ी संख्या में मौजूद थे और धीरे धीरे शोरगुल का माहौल बन रहा था. मैं अपने घर चला आया और तैयार होकर काम पर चला गया. यह बात सच नहीं है कि इंदिरा जी की हत्या के खिलाफ दिल्ली में लोगों का गुस्सा फूट पड़ा था. दिल्ली में सारा खून खराबा राजीव गांधी के मुकामी कांग्रेसी नेताओं द्वारा प्रायोजित था. शाम को बस में बैठे हुए मैंने आकाशवाणी की छ; बजे की बुलेटिन सुनी कि राजीव गांधी को प्रधानमंत्री पद की शपथ दिला दी गयी है. मैं सन्न रह गया. मुझे लगा कि राजीव गांधी को सरकार में रहने का एक दिन का भी अनुभव नहीं है, अभी दो साल पहले राजनीति में सक्रिय हुए हैं, यह क्या हो गया. सरकार के अंदर मौजूद स्वार्थतंत्र तो उनसे बहुत सारे उलटे सीधे काम करवा लेगा. बाद की घटनाएं बताती हैं को मेरा डर सही था.

बहरहाल अब तो हो चुका था. अपने दोस्त जनार्दन सिंह के यहाँ पंहुचा. वहाँ से घर आते हुए मैंने आर के पुरम और सफदरजंग इन्केल्व के बीच में कई जगह देखा कि अर्जुन दास के लोग सिखों को मार रहे हैं. मेरे मोहल्ले के कोने में एक घर था जिसपर बख्शी लिखा था, वह आग के हवाले हो गया था. किसी तरह घर पंहुचा. लेकिन मोहल्ले में ही सिखों के घरों की पहचान करके आग लगाई जा रही थी. मेरे मित्र आशुतोष वार्ष्णेय वहीं पड़ोस में अमिता और सतीश के घर पर रहते थे . उन्होएँ भी दिनमें शहर में तनाव देखा था. शहर से लौटकर उन्होंने जो वर्णन किया हो दिल दहला देने वाला था.

अगले दिन आशुतोष के स्कूटर पर बैठकर शहर में निकले.  लेडी श्रीराम कालेज के पीछे लाजपत भवन में रोमेश थापर, कुलदीप नैयर और धर्मा कुमार की अगुवाई में लोग जमा हो रहे थे. पता लगा कि अर्जुन दास, एच के एल भगत, ललित माकन और सज्जन कुमार के इलाकों में खूब क़त्ल-ओ-गारद हुआ है. हम लोग त्रिलोकपुरी की तरफ एक टेम्पो में बैठकर गए. वहाँ की तबाही दिल दहला देने वाली थी. बहुत सारे लोगों के घर जला दिए गए थे, लोगों के परिवार वालों को मार डाला गया था. सब कुछ बिलकुल संगठित रूप से हो रहा था. कनिष्क होटल में हमारे दोस्त आर सी सिंह मैनेजर थे. उनके पास गए और उन्होने  पूरी दिल्ली में हुई तबाही का हाल बताया.

शाम को घर आया तो मेरे मोहल्ले में भारी तबाही नज़र आयी. अर्जुन दास का इलाका है, सिखों के घरों को चुन चुन कर तबाह किया गया था. आईआईटी के प्रोफ़ेसर दिनेश मोहन के साथ उनकी फिएट कार में मैं और आशू कई जगह गए और आजतक मैं यह मानने को तैयार नहीं हूँ कि इंदिरा जी की हत्या के बाद सिखों के खिलाफ लोगों का गुस्सा फूट पड़ा था. दिल्ली में तो सारा खून खराबा प्रायोजित था. प्रधानमंत्री राजीव गांधी के सामने अपने आपको उनका वफादार साबित करने के लिए मुकामी कांग्रेसी नेताओं ने खूनखराबा करवाया था, जिसमें करीब तीन हजार से ज्यादा सिख मारे गये थे.

फर्जी दस्तावेज मामला: बालकृष्ण के खिलाफ आरोप तय

toc news internet channel 

देहरादून, फर्जी दस्तावेज के जरिये भारतीय पासपोर्ट हासिल करने के मामले में योगगुरु बाबा रामदेव के निकट सहयोगी बालकृष्ण के विरुद्ध अदालत ने आरोप तय कर दिये हैं। सीबीआई की मजिस्ट्रेट प्रीतू शर्मा की अदालत में कल बालकृष्ण के अलावा मामले में सहअभियुक्त उत्तर प्रदेश के खुर्जा स्थित राधाकृष्ण संस्कृत महाविद्यालय के तत्कालीन प्रधानाचार्य नरेश चंद्र द्विवेदी के खिलाफ भी आरोप तय किये गये। आधिकारिक सूत्रों ने यहां बताया कि अब बालकृष्ण और द्विवेदी के खिलाफ मुकदमा चलाया जायेगा। मुकदमे की सुनवाई के लिये पांच दिसंबर की तारीख तय की गयी है।

आरोपियों की मौजूदगी में अदालत ने उन्हें बताया कि बालकृष्ण के खिलाफ आपराधिक षडयंत्र, धोखाधड़ी, फर्जी दस्तावेज रखने, फर्जी दस्तावेज को असल के रूप में प्रयोग करने और पासपोर्ट अधिनियम के तहत मुकदमा चलेगा। वहीं, मामले में सहआरोपी द्विवेदी के विरुद्ध आपराधिक षडयंत्र, धोखाधड़ी और फर्जी शैक्षणिक दस्तावेज बनाने का मुकदमा चलेगा। मामले की तहकीकात कर सीबीआई ने पिछले साल 10 जुलाई को आरोपपत्र दाखिल किया था।

dhamaal Posts

जिला ब्यूरो प्रमुख / तहसील ब्यूरो प्रमुख / रिपोर्टरों की आवश्यकता है

जिला ब्यूरो प्रमुख / तहसील ब्यूरो प्रमुख / रिपोर्टरों की आवश्यकता है

ANI NEWS INDIA

‘‘ANI NEWS INDIA’’ सर्वश्रेष्ठ, निर्भीक, निष्पक्ष व खोजपूर्ण ‘‘न्यूज़ एण्ड व्यूज मिडिया ऑनलाइन नेटवर्क’’ हेतु को स्थानीय स्तर पर कर्मठ, ईमानदार एवं जुझारू कर्मचारियों की सम्पूर्ण मध्यप्रदेश एवं छत्तीसगढ़ के प्रत्येक जिले एवं तहसीलों में जिला ब्यूरो प्रमुख / तहसील ब्यूरो प्रमुख / ब्लाक / पंचायत स्तर पर क्षेत्रीय रिपोर्टरों / प्रतिनिधियों / संवाददाताओं की आवश्यकता है।

कार्य क्षेत्र :- जो अपने कार्य क्षेत्र में समाचार / विज्ञापन सम्बन्धी नेटवर्क का संचालन कर सके । आवेदक के आवासीय क्षेत्र के समीपस्थ स्थानीय नियुक्ति।
आवेदन आमन्त्रित :- सम्पूर्ण विवरण बायोडाटा, योग्यता प्रमाण पत्र, पासपोर्ट आकार के स्मार्ट नवीनतम 2 फोटोग्राफ सहित अधिकतम अन्तिम तिथि 30 मई 2019 शाम 5 बजे तक स्वंय / डाक / कोरियर द्वारा आवेदन करें।
नियुक्ति :- सामान्य कार्य परीक्षण, सीधे प्रवेश ( प्रथम आये प्रथम पाये )

पारिश्रमिक :- पारिश्रमिक क्षेत्रिय स्तरीय योग्यतानुसार। ( पांच अंकों मे + )

कार्य :- उम्मीदवार को समाचार तैयार करना आना चाहिए प्रतिदिन न्यूज़ कवरेज अनिवार्य / विज्ञापन (व्यापार) मे रूचि होना अनिवार्य है.
आवश्यक सामग्री :- संसथान तय नियमों के अनुसार आवश्यक सामग्री देगा, परिचय पत्र, पीआरओ लेटर, व्यूज हेतु माइक एवं माइक आईडी दी जाएगी।
प्रशिक्षण :- चयनित उम्मीदवार को एक दिवसीय प्रशिक्षण भोपाल स्थानीय कार्यालय मे दिया जायेगा, प्रशिक्षण के उपरांत ही तय कार्यक्षेत्र की जबाबदारी दी जावेगी।
पता :- ‘‘ANI NEWS INDIA’’
‘‘न्यूज़ एण्ड व्यूज मिडिया नेटवर्क’’
23/टी-7, गोयल निकेत अपार्टमेंट, प्रेस काम्पलेक्स,
नीयर दैनिक भास्कर प्रेस, जोन-1, एम. पी. नगर, भोपाल (म.प्र.)
मोबाइल : 098932 21036


क्र. पद का नाम योग्यता
1. जिला ब्यूरो प्रमुख स्नातक
2. तहसील ब्यूरो प्रमुख / ब्लाक / हायर सेकेंडरी (12 वीं )
3. क्षेत्रीय रिपोर्टरों / प्रतिनिधियों हायर सेकेंडरी (12 वीं )
4. क्राइम रिपोर्टरों हायर सेकेंडरी (12 वीं )
5. ग्रामीण संवाददाता हाई स्कूल (10 वीं )

SUPER HIT POSTS

TIOC

''टाइम्स ऑफ क्राइम''

''टाइम्स ऑफ क्राइम''


23/टी -7, गोयल निकेत अपार्टमेंट, जोन-1,

प्रेस कॉम्पलेक्स, एम.पी. नगर, भोपाल (म.प्र.) 462011

Mobile No

98932 21036, 8989655519

किसी भी प्रकार की सूचना, जानकारी अपराधिक घटना एवं विज्ञापन, समाचार, एजेंसी और समाचार-पत्र प्राप्ति के लिए हमारे क्षेत्रिय संवाददाताओं से सम्पर्क करें।

http://tocnewsindia.blogspot.com




यदि आपको किसी विभाग में हुए भ्रष्टाचार या फिर मीडिया जगत में खबरों को लेकर हुई सौदेबाजी की खबर है तो हमें जानकारी मेल करें. हम उसे वेबसाइट पर प्रमुखता से स्थान देंगे. किसी भी तरह की जानकारी देने वाले का नाम गोपनीय रखा जायेगा.
हमारा mob no 09893221036, 8989655519 & हमारा मेल है E-mail: timesofcrime@gmail.com, toc_news@yahoo.co.in, toc_news@rediffmail.com

''टाइम्स ऑफ क्राइम''

23/टी -7, गोयल निकेत अपार्टमेंट, जोन-1, प्रेस कॉम्पलेक्स, एम.पी. नगर, भोपाल (म.प्र.) 462011
फोन नं. - 98932 21036, 8989655519

किसी भी प्रकार की सूचना, जानकारी अपराधिक घटना एवं विज्ञापन, समाचार, एजेंसी और समाचार-पत्र प्राप्ति के लिए हमारे क्षेत्रिय संवाददाताओं से सम्पर्क करें।





Followers

toc news