Wednesday, May 2, 2012

हमारे हॉलीवुड की हेट स्टोरी

विनय सुल्तान

बम्बईया सिनेमा अपनी पैदाइश से ही बाजारू रहा है. जब फिल्म निर्माण की नींव पड़ी तब इसके ईंट गारे में अर्थशास्त्र का सरोकार तो था लेकिन सरोकार के लिए कभी कोई अर्थशास्त्र विकसित नहीं किया गया. पारसी थियेटर के बाद सिनेमा में पैसा उन लोगों ने लगाया जो इसके जरिए अच्छा पैसा पीटना चाहते थे. यह खालिस अमीर-उमरावों की दिल्लगी के लिए बना था. पहली बार जब भारत में इसे दिखाया गया तब इस तमाशे को देखने वाले तमाशबीन वही लोग थे जो इसकी अच्छी कीमत दे सकते थे. यहाँ तक कि सिनेमा में काम करने वाली औरतों को सामाजिक मान्यता तब मिली जब सम्भ्रांत परिवारों की औरतें सिनेमा में आने लगीं.
कला के साथ सबसे बड़ी समस्या यह है कि सत्ता के मनोरंजन का साधन बना दी जाती है. साहित्य, संगीत, नृत्य, गायकी आदि सभी निजामों और सरमायेदारों के सामने अक्सर अश्लील नुमाइश कराती नज़र आती है. हमारे यहाँ राजा का "बिरद" गाते-गाते भाटों की कई नस्लों अपने गले उधेड़ लिए. नवाबज़ादों की खूंखार ख्वाहिशों के सामने नामालूम कितनी तवायफों ने कोठे पर अपने पों पटक-पटक कर तोड़ लिए. पता नहीं  कला की यह नियति कौन लिखता है पर सदियों से कला की यही नियति रही है.
200 साल तक उपनिवेश रहने के बाद हम भले ही राजनैतिक रूप से हमे आजाद कहा जा सकता है परन्तु हम उस बौद्धिक जड़ता को नहीं तोड़ पाए जो उपनिवेश काल में संस्थागत तौर पर पैदा की गई थी.आनंद स्वरुप वर्मा के शब्दों में हमारे दिमाग का "डीकोलोनाइजेशन" नहीं हो पाया. ऐसे में हम नवउदारवाद के सबसे असान शिकार थे. हमारे जनसंचार माध्यमों ने सांस्कृतिक साम्राज्यवाद के सामने हथियार डाल दिए. यह हमारे मीडिया के लिए सबसे आसान और फायदेमंद था.नव उदारवाद के २० साल बाद अब बम्बईया सिनेमा को बाजारू ग्लोबलाइजेसन से नए तरीके का मुकाबला करने पड़ रहा है.नव उदारवाद के साये में जो नई नस्ल पैदा हुई उसके पास अपनी "डब्बाबंद संस्कृति" है.हालाँकि यह चौंका देने वाला नहीं है.क्योंकि  की इस डब्बाबंद संस्कृति का सबसे बड़ा वितरक हमारा मिडिया है और उसका धंधा आज भी अच्छा चला रहा है.
हाल में ही एक फिल्म पर बड़ा हो-हल्ला हो रहा है. फिल्म का नाम है "हेट-स्टोरी". यह फिल्म भी हालीवुड मशहूर एरोटिक थ्रिलर "बेसिक इंस्टिंक्ट" से प्रेरित है.इस फिल्म में जिस तरीके से सेक्स का इस्तेमाल हुआ है वहां "कहानी की मांग" का तर्क बहुत ही खोखला लगता है.
बहरहाल अब स्थितियां कुछ बदल रही है.आज हमारे शाहरुख़ खान को को न सिर्फ दूसरे खानों, कपूरों, कुमारो, से मुकाबला करना पड़ रहा है साथ ही वो ब्रेड पिट, टॉम क्रूज़ और बिल स्मिथ से भी दो-दो हाथ करने पड़ रहा हैं. मुक्त बाज़ार ने आज बाज़ार को  विकल्पों से भर दिया है .अब भारतीय दर्शक की होलिवुड तक पहुँच उतनी मुश्किल नहीं रही.साथ ही डबिंग के जरिये हालीवुड  ने बम्बईया सिनेमा पर बड़ा पैना वार किया.अब हिंदी पट्टी का सिनेमा मार-धाड,सेक्स,मसाला फिल्मे देखने के लिए मुंबई का मोहताज नहीं है.अब होलीवुड उसकी अपनी भाषा में बोल रहा है.
हालीवुड की इस चुनौती का सामना करने के लिए बम्बईया सिनेमा ने जो तरीका खोजा है वो और भी बेहूदा है. हालाँकि होलीवुड की नक़ल की जो प्रवृत्ति हम
देखते है वो आज की नहीं है. यहाँ तक की बम्बईया सिनेमा ने हॉलीवुड की ही तर्ज पर अपना नाम बहुत पहले बदल कर बोलीवुड कर लिया था और तमिल सिनेमा ने टोलीवुड. सिक्क्वल, विज्ञान फंतासी, अश्लील, हास्य ये सब बॉलीवुड ने अपने नाम की तरह होलीवुड से सामाजिक सरोकारों को रेहन पर रख कर उधार लिया है. कई बार तो रचनात्मकता का इतना अकाल देखा जाता है की संवाद तक नहीं बदले जाते. शाहरुख़ खान की हालिया फिल्म "रा-वन" से ले कर डोन के बेहूदा सिक्वल में यही भेड़चाल देखी जा सकती है.
पूंजीवाद बड़ी ही अवसरवादी किस्म की व्यवस्था है.आज से सौ साल पहले टाइटेनिक के डूबने से तकरीबन डेढ़ हज़ार लोग मारे गए थे.अब इस अवसर पर भी मुनाफा पीटा जा रहा है.1997 में टाइटेनिक हादसे पर डिकैप्रियो और केट विंसलेट अभिनीत मशहूर फिल्म बनी थी.अब इस फिल्म को 3 -डी में फिर से रोसा जा रहा है.इस फिल्म को मिडिया ने जिस तरीके से कवर किया वो हैरान करने वाला था.इस फिल्म ने अब तक 55 करोड़ से ज्यादा का कलेक्सन कर लिया है.गणित बहुत सीधा सा है.जिस मुक्त व्यापर का झंडा बदार हमारा सिनेमा बना हुआ अब उसी झंडे के वजन से उसके कंधे बेझिल हो रहे हैं.हालाँकि हालीवुड  की चुनौती इतनी बड़ी नहीं है पर जिस तरीके से हम संस्कृतिक साम्राज्यवाद की चपेट में आये हैं ये मुकाबला हमेशा एक तरफा नहीं रहने वाला है.

(आईआईएमसी के छात्र रह चुके विनय फिलहाल स्वतंत्र पत्रकार हैं.)

No comments:

Post a Comment

dhamaal Posts

जिला ब्यूरो प्रमुख / तहसील ब्यूरो प्रमुख / रिपोर्टरों की आवश्यकता है

जिला ब्यूरो प्रमुख / तहसील ब्यूरो प्रमुख / रिपोर्टरों की आवश्यकता है

ANI NEWS INDIA

‘‘ANI NEWS INDIA’’ सर्वश्रेष्ठ, निर्भीक, निष्पक्ष व खोजपूर्ण ‘‘न्यूज़ एण्ड व्यूज मिडिया ऑनलाइन नेटवर्क’’ हेतु को स्थानीय स्तर पर कर्मठ, ईमानदार एवं जुझारू कर्मचारियों की सम्पूर्ण मध्यप्रदेश एवं छत्तीसगढ़ के प्रत्येक जिले एवं तहसीलों में जिला ब्यूरो प्रमुख / तहसील ब्यूरो प्रमुख / ब्लाक / पंचायत स्तर पर क्षेत्रीय रिपोर्टरों / प्रतिनिधियों / संवाददाताओं की आवश्यकता है।

कार्य क्षेत्र :- जो अपने कार्य क्षेत्र में समाचार / विज्ञापन सम्बन्धी नेटवर्क का संचालन कर सके । आवेदक के आवासीय क्षेत्र के समीपस्थ स्थानीय नियुक्ति।
आवेदन आमन्त्रित :- सम्पूर्ण विवरण बायोडाटा, योग्यता प्रमाण पत्र, पासपोर्ट आकार के स्मार्ट नवीनतम 2 फोटोग्राफ सहित अधिकतम अन्तिम तिथि 30 मई 2019 शाम 5 बजे तक स्वंय / डाक / कोरियर द्वारा आवेदन करें।
नियुक्ति :- सामान्य कार्य परीक्षण, सीधे प्रवेश ( प्रथम आये प्रथम पाये )

पारिश्रमिक :- पारिश्रमिक क्षेत्रिय स्तरीय योग्यतानुसार। ( पांच अंकों मे + )

कार्य :- उम्मीदवार को समाचार तैयार करना आना चाहिए प्रतिदिन न्यूज़ कवरेज अनिवार्य / विज्ञापन (व्यापार) मे रूचि होना अनिवार्य है.
आवश्यक सामग्री :- संसथान तय नियमों के अनुसार आवश्यक सामग्री देगा, परिचय पत्र, पीआरओ लेटर, व्यूज हेतु माइक एवं माइक आईडी दी जाएगी।
प्रशिक्षण :- चयनित उम्मीदवार को एक दिवसीय प्रशिक्षण भोपाल स्थानीय कार्यालय मे दिया जायेगा, प्रशिक्षण के उपरांत ही तय कार्यक्षेत्र की जबाबदारी दी जावेगी।
पता :- ‘‘ANI NEWS INDIA’’
‘‘न्यूज़ एण्ड व्यूज मिडिया नेटवर्क’’
23/टी-7, गोयल निकेत अपार्टमेंट, प्रेस काम्पलेक्स,
नीयर दैनिक भास्कर प्रेस, जोन-1, एम. पी. नगर, भोपाल (म.प्र.)
मोबाइल : 098932 21036


क्र. पद का नाम योग्यता
1. जिला ब्यूरो प्रमुख स्नातक
2. तहसील ब्यूरो प्रमुख / ब्लाक / हायर सेकेंडरी (12 वीं )
3. क्षेत्रीय रिपोर्टरों / प्रतिनिधियों हायर सेकेंडरी (12 वीं )
4. क्राइम रिपोर्टरों हायर सेकेंडरी (12 वीं )
5. ग्रामीण संवाददाता हाई स्कूल (10 वीं )

SUPER HIT POSTS

TIOC

''टाइम्स ऑफ क्राइम''

''टाइम्स ऑफ क्राइम''


23/टी -7, गोयल निकेत अपार्टमेंट, जोन-1,

प्रेस कॉम्पलेक्स, एम.पी. नगर, भोपाल (म.प्र.) 462011

Mobile No

98932 21036, 8989655519

किसी भी प्रकार की सूचना, जानकारी अपराधिक घटना एवं विज्ञापन, समाचार, एजेंसी और समाचार-पत्र प्राप्ति के लिए हमारे क्षेत्रिय संवाददाताओं से सम्पर्क करें।

http://tocnewsindia.blogspot.com




यदि आपको किसी विभाग में हुए भ्रष्टाचार या फिर मीडिया जगत में खबरों को लेकर हुई सौदेबाजी की खबर है तो हमें जानकारी मेल करें. हम उसे वेबसाइट पर प्रमुखता से स्थान देंगे. किसी भी तरह की जानकारी देने वाले का नाम गोपनीय रखा जायेगा.
हमारा mob no 09893221036, 8989655519 & हमारा मेल है E-mail: timesofcrime@gmail.com, toc_news@yahoo.co.in, toc_news@rediffmail.com

''टाइम्स ऑफ क्राइम''

23/टी -7, गोयल निकेत अपार्टमेंट, जोन-1, प्रेस कॉम्पलेक्स, एम.पी. नगर, भोपाल (म.प्र.) 462011
फोन नं. - 98932 21036, 8989655519

किसी भी प्रकार की सूचना, जानकारी अपराधिक घटना एवं विज्ञापन, समाचार, एजेंसी और समाचार-पत्र प्राप्ति के लिए हमारे क्षेत्रिय संवाददाताओं से सम्पर्क करें।





Followers

toc news