Times of Crime Bhopal

Times of Crime Bhopal

C

C

Monday, June 19, 2017

PM मोदी ने बिहार के राज्यपाल रामनाथ कोविंद को राष्ट्रपति उम्मीदवार बनाया



TOC NEWS

प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी और भाजपा अध्यक्ष अमित शाह ने राष्ट्रपति पद के लिए ऐसे चेहरे को आगे कर दिया जिसका अंदाजा शायद ही किसी ने लगाया हो। बिहार के राज्यपाल और कभी भाजपा के प्रमुख दलित चेहरे रहे रामनाथ कोविंद राष्ट्रपति पद के लिए दोनों नेताओं की पहली पसंद बने हैं।

भाजपा में कई बड़े पदों पर रहे रामनाथ कोविंद की गिनती लो प्रोफाइल चेहरों के रूप में होती रही है जो चुपचाप पर्दे के पीछे रहकर तन्मयता से अपना काम करते रहे। लेकिन एकाएक राष्ट्रपति पद के लिए उनका नाम सामने आने से अब उनको लेकर तमाम सवाल और जिज्ञासाएं खड़ी हो गई हैं।

पहला सवाल तो ये ही है कि आखिर पार्टी ने वरिष्‍ठ नेता लालकृष्‍ण आड़वाणी, मुरली मनोहर जोशी, लोकसभा स्पीकर सुमित्रा महाजन सहित तमाम बड़े चेहरों पर कोविंद को तरजीह क्यों दी? तो चलिए आपको बताते हैं उन खास वजहों के बारे में जिसकी वजह से मोदी शाह की जोड़ी ने उन्हें इस दौड़ में सबसे आगे रखा।

सबका साथ सबका विकास के खांचे में सेट

दलित चेहरे को बढ़ावा देना
दलित समुदाय से होना कोविंद की उम्‍मीदवारी की बड़ी वजह बना। लोकसभा और फिर यूपी के विधानसभा चुनावों में जिस तरह से दलितों ने अपने पुराने सिपहसलारों को छोड़ भाजपा को समर्थन किया उस बढ़त को पार्टी किसी भी सूरत में खोना नहीं चाहती है। ऐसे में राष्ट्रपति चुनाव के लिए किसी दलित चेहरे को आगे करने से बड़ा दांव और क्या हो सकता था। कोविंद के सहारे पार्टी सबका साथ सबका विकास के नारे को भी आगे बढ़ा सकेगी।

विरोध करने वालों पर लगेगा दलित विरोधी होने का ठप्पा
रामनाथ कोविंद का नाम घोषित करने का सबसे बड़ा लाभ भाजपा को यह भी हो सकता है कि उनका विरोध करना दूसरे दलों को भारी पड़ सकता है। दलित चेहरा होने के कारण विरोध करने वालों पर दलित विरोधी होने का ठप्पा लग सकता है। ऐसे में बेवजह कोई भी इस दल इस तरह का खामियाजा नहीं भुगतना चाहेगा। राष्ट्रपति चुनाव में पार्टी के दलित नेता रामनाथ कोविंद से बेहतर चेहरा कोई नहीं हो सकता था, जिससे पार्टी पूरे दम के साथ यह कह सके कि उसने एक दलित को देश के राष्ट्रपति की कुर्सी तक पहुंचाया।

लंबा राजनीतिक अनुभव
राजनीतिक अनुभव के मामले में भी कोविंद का पक्ष काफी मजबूत है। वह 12 साल तक राज्यसभा के सांसद रहे और भाजपा के दलित मोर्चा के अध्यक्ष रह चुके हैं। कुछ समय के लिए पार्टी के प्रवक्ता भी रहे और अब पिछले दो सालों से बिहार के राज्यपाल हैं।

समर्थन जुटाने में नहीं होगी बड़ी दिक्‍कत
हाइकोर्ट-सुप्रीम कोर्ट में वकालत, कानून के अच्छे जानकार
कानपुर के रहने वाले रामनाथ कोविंद कानून के भी अच्छे जानकार हैं। कानपुर यूनिवर्सिटी से बीकॉम और एलएलबी की पढ़ाई करने वाले कोविंद ने दिल्‍ली हाइकोर्ट और सुप्रीम कोर्ट में 16 साल तक वकालत की है। ऐसे में राष्ट्रपति जैसे पद पर तमाम कानूनी प्रक्रियाओं और संविधान की बेहतर जानकारी उनकी राह आसान करेगी।

समर्थन जुटाना होगा आसान
रामनाथ कोविंद के चेहरे पर भाजपा के लिए दूसरे दलों से समर्थन जुटाना भी आसान होगा। इसमें उनका दलित होना काफी फायदेमंद रह सकता है। बसपा सुप्रीमो मायावती के लिए अब उनके चेहरे का विरोध करना मुश्किल भरा होगा तो बिहार का राज्यपाल रहने के कारण मुख्यमंत्री नीतीश कुमार का समर्थन मिलने की उम्‍मीद भी की जा सकती है।

आम राय बनने की उम्‍मीद
रामनाथ कोविंद को राष्ट्रपति पद का उम्मीदवार बनाने के बाद भाजपा के लिए सबसे आसान काम होगा उनके नाम पर आमराय बनाना। पार्टी अगर आड़वाणी, जोशी या किसी अन्य बड़े नेता को अपना उम्‍मीदवार तय करती तो पूरी संभावना थी कि विपक्ष शायद ही उस नाम पर तैयार होता, लेकिन रामनाथ कोविंद के नाम पर शायद ही किसी को आपत्ति हो। बिहार में राज्यपाल रहने के दौरान लालू और नीतीश से उनके मधुर संबंध रहे हैं। सौम्य स्वभाव के कारण विपक्ष के कई नेताओं से भी उनके अच्छे संबंध माने जाते हैं। ऐसे में उनके चेहरे पर आम राय बनने की पूरी उम्‍मीद है। हालांकि फिलहाल कांग्रेस और शिवसेना जैसे दलों ने इस मुद्दे पर चुप्पी साध ली है, लेकिन ये तात्कालिक हो सकती है।
निर्विवादित और ईमानदार छवि

अंतरराष्ट्रीय अनुभव
दो बार राज्यसभा का सदस्य रहने के दौरान रामना‌थ कोविंद ने कई बार विदेशों की यात्राएं की हैं। वह गवर्नर्स ऑफ इंडियन इंस्टिट्यूट ऑफ मैनेजमेंट के भी सदस्य रहे हैं। साल 2002 में उन्होंने दुनिया की सबसे बड़ी पंचायत संयुक्त राष्ट्र महासभा को भी संबोधित किया था। उन्होंने कई देशों की यात्राएं की हैं। ऐसे में राष्‍ट्रपति जैसी महत्वपूर्ण जिम्मेदारी के लिए उनकी योग्यता पर भी प्रश्नचिन्ह नहीं लगया सकता।

आज तक कोई विवाद नहीं
रामनाथ कोविंद की छवि निर्विवादित नेता की रही है, पार्टी में तमाम पदों पर रहने के अलावा वह राज्यसभा की कई कमेटियों के सदस्य भी भी रहे हैं। ऐसे में हमेशा उनका दामन पाक साफ रहा न कभी कभी उनके नाम के साथ कोई विवाद जुड़ा और न ही किसी भ्रष्टाचार के मामले में। ऐसे में कोविंद की यह खूबी भी उनकी राह आसान कर गई।

ईमानदार छवि
कानपुर के दलित परिवार में जन्में रामनाथ कोविंद की छवि एक ईमानदार और जमीन से जुड़े नेता की मानी जाती है। लंबे समय तक सार्वजनिक जीवन में रहने के दौरान उन पर कभी कोई आरोप नहीं लगा। तमाम उम्र गरीबों और वंचितों के मुद्दे को लेकर संघर्ष किया। राजनीति में जहां आज लोग हाईक्लास जीवन जीने के लिए पहचाने जाते हैं वहीं कोविंद आज भी साधारण जीवन जीते हैं। यहां तक की गांव का पैतृक मकान भी बारातशाला बनाने के लिए दान कर दिया। 
Related Posts Plugin for WordPress, Blogger...

TOC NEWS

TOC NEWS

TIOC

''टाइम्स ऑफ क्राइम''

''टाइम्स ऑफ क्राइम''


23/टी -7, गोयल निकेत अपार्टमेंट, जोन-1,

प्रेस कॉम्पलेक्स, एम.पी. नगर, भोपाल (म.प्र.) 462011

फोन नं. - 0755- 4078525,

98932 21036,08305703436

किसी भी प्रकार की सूचना, जानकारी अपराधिक घटना एवं विज्ञापन, समाचार, एजेंसी और समाचार-पत्र प्राप्ति के लिए हमारे क्षेत्रिय संवाददाताओं से सम्पर्क करें।

http://tocnewsindia.blogspot.com




यदि आपको किसी विभाग में हुए भ्रष्टाचार या फिर मीडिया जगत में खबरों को लेकर हुई सौदेबाजी की खबर है तो हमें जानकारी मेल करें. हम उसे वेबसाइट पर प्रमुखता से स्थान देंगे. किसी भी तरह की जानकारी देने वाले का नाम गोपनीय रखा जायेगा.
हमारा mob no 09893221036, 09009844445 & हमारा मेल है E-mail: timesofcrime@gmail.com, toc_news@yahoo.co.in, toc_news@rediffmail.com

''टाइम्स ऑफ क्राइम''

23/टी -7, गोयल निकेत अपार्टमेंट, जोन-1, प्रेस कॉम्पलेक्स, एम.पी. नगर, भोपाल (म.प्र.) 462011
फोन नं. - 0755- 4078525, 98932 21036, 09009844445

किसी भी प्रकार की सूचना, जानकारी अपराधिक घटना एवं विज्ञापन, समाचार, एजेंसी और समाचार-पत्र प्राप्ति के लिए हमारे क्षेत्रिय संवाददाताओं से सम्पर्क करें।





appointment times of crime

appointment times of crime

Followers

add tocn

add tocn
आवश्यकता है ‘‘टाइम्स ऑफ क्राइम’’ भारत के सर्वश्रेष्ठ निर्भीक, निष्पक्ष व खोजपूर्ण साप्ताहिक समाचार पत्र ‘‘टाइम्स ऑफ क्राइम’’ हेतु सम्पूर्ण भारत में नगर/ब्लाक/पंचायत स्तर पर क्षेत्रीय प्रतिनिधियों/संवाददाताओं की आवश्यकता है जो अपने गृह नगर क्षेत्र में समाचार/विज्ञापन/प्रसार सम्बन्धी नेटवर्क का संचालन कर सके। आवेदक के आवासीय क्षेत्र के समीपस्थ स्थानीय नियुक्ति। सम्पूर्ण विवरण योग्यता प्रमाण पत्र, पासपोर्ट आकार के नवीनतम फोटोग्राफ सहित अधिकतम 25.07. 2013 तक डाक/कोरियर द्वारा आवेदन करें।

toc news

प्रतिनिधियों/संवाददाताओं की आवश्यकता है

review:


म.प्र., छ.ग.के समस्त नगर/ ब्लाक/ ग्राम पंचायत स्तर/ वार्ड में संवाददाता बनाना है


भारत के सर्वश्रेष्ठ निर्भीक, निष्पक्ष व खोजपूर्ण साप्ताहिक समाचार पत्र ‘‘टाइम्स ऑफ क्राइम’’ हेतु सम्पूर्ण भारत में नगर/ब्लाक/पंचायत स्तर पर क्षेत्रीय प्रतिनिधियों/संवाददाताओं की आवश्यकता है जो अपने गृह नगर क्षेत्र में समाचार/विज्ञापन/प्रसार सम्बन्धी नेटवर्क का संचालन कर सके। आवेदक के आवासीय क्षेत्र के समीपस्थ स्थानीय नियुक्ति। सम्पूर्ण विवरण योग्यता प्रमाण पत्र, पासपोर्ट आकार के नवीनतम फोटोग्राफ सहित अधिकतम 30.10. 2016 तक डाक/कोरियर द्वारा आवेदन करें।




टाइम्स ऑफ क्राइम

23/टी-7, गोयल निकेत अपार्टमेंट, पे्रस काम्पलेक्स,

जोन-1, एम. पी. नगर भोपाल (म.प्र.) दूरभाष क्र.-0755-4078525

मोबाइल 098932 21036, 08305703436



आवेदन पत्र का प्रारूप


1. आवेदक का नाम...................................

2. आवेदित पद........................................

3. कार्य क्षेत्र...........................................

4. पिता/पति का नाम .................................

5. जाति, धर्म एवं राष्ट्रीयता...........................

6. जन्म तिथि .........................................

7. वर्तमान तथा स्थायी पता.............................

8. शैक्षणिक योग्यता..................................

9. पूर्व अनुभव(यदि कोई हो).........................

10. फोन/मोबाइल नं..................................

11.आवेदन के तिथि...................................


सहित हस्ताक्षर